News Nation Logo

पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेगा कोरोना वायरस का ब्रिटेन वेरिएंट: वैज्ञानिक

जेनेटिक सर्विलांस प्रोग्राम के चीफ का मानना है कि ब्रिटेन के 'केन्ट' क्षेत्र में सबसे पहले सामने आया कोरोना वायरस का नया वेरिएंट अब चिंता का विषय बन गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 12 Feb 2021, 10:47:04 AM
पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेगा कोरोना वायरस का ब्रिटेन वेरिएंट

पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेगा कोरोना वायरस का ब्रिटेन वेरिएंट (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • दुनियाभर में फैलेगा कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन
  • शेरोन पीकॉक ने बताया चिंताजनक
  • कोरोना वायरस वैक्सीन नए वैरिएंट्स के खिलाफ भी असरदार

लंदन:

 दुनियाभर में कोरोना वायरस का खतरा कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इसी बीच ब्रिटेन के आनुवंशिक निगरानी कार्यक्रम (जेनेटिक सर्विलांस प्रोग्राम) के चीफ ने एक ऐसा खुलासा किया है, जिसे जानने के बाद दुनिया के सभी देशों की चिंता बढ़ गई है. जी हां, जेनेटिक सर्विलांस प्रोग्राम के चीफ का मानना है कि ब्रिटेन के 'केन्ट' क्षेत्र में सबसे पहले सामने आया कोरोना वायरस का नया वेरिएंट अब चिंता का विषय बन गया है. कोविड-19 जेनोमिक्स यूके कंसोर्टियम के डायरेक्टर शेरोन पीकॉक ने बीबीसी को बताया, "कोरोना का यह केन्ट वैरिएंट देश में फैल चुका है और इस बात की पूरी संभावना है कि यह धीरे-धीरे पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लेगा."

ये भी पढ़ें- 6 मार्च तक सभी फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना टीके की पहली खुराक दी जाए, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय का निर्देश

शेरोन पीकॉक ने कहा, "जब हम काफी संख्या में इस वायरस से संक्रमित हो चुके होंगे, यह फिर खुद ही अपना रूप बदल लेगा. उसके बाद हम इसके बारे में चिंता करना रोक सकते हैं. लेकिन, मैं यह सोचता हूं कि भविष्य को देखते हुए इसके लिए वर्षों लग जाएंगे. इसमें दस साल लग सकते हैं." हालांकि, पीकॉक ने एक राहत देने वाली भी बात कही है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वैक्सीन नए वैरिएंट्स के खिलाफ भी असरदार है. बता दें कि भारत सहित दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस की वैक्सीन दी जाने लगी है.

ये भी पढ़ें- बिजनौर और मेरठ का दौरा करेंगी प्रियंका गांधी, किसान महापंचायत में होंगी शामिल

उन्होंने कहा कि ब्रिटेन में इस्तेमाल होने वाले टीकों को देश में वायरस के मौजूदा वैरिएंट के खिलाफ काम करने के लिए तैयार किया गया है. इस हफ्ते, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने घोषणा की है कि बी.1.1.7 के रूप में जाना जाने वाला कोविड-19 वेरिएंट 86 देशों में रिपोर्ट किया गया है.

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ वाम दलों का बंगाल बंद, जानें क्या है वजह

विश्व के सबसे बड़े स्वास्थ्य निकाय का मानना है कि यह वैरिएंट प्रारंभिक निष्कर्षों के आधार पर अधिक खतरनाक है. सात फरवरी तक और भी छह देशों में नए वेरिएंट के मामलों की सूचना मिली है. एक नई स्टडी में यह भी बताया गया है कि ब्रिटेन वेरिएंट अमेरिका में तेजी से फैल रहा है. अमेरिका पहले ही कोरोनावायरस संक्रमण से उबर नहीं पाया है, ऐसे में उसके लिए यह चिंताजनक है.

ये भी पढ़ें- चारा घोटाला: लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका पर सुनवाई आज

बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के नए मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है. विश्वभर में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 10,82,98,371 हो चुकी है, जिनमें से 23,78,863 लोगों की मौत हो चुकी है. इनके अलावा 8,03,43,395 लोग कोरोना वायरस से ठीक भी हो चुके हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 12 Feb 2021, 10:47:04 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.