News Nation Logo

Coronavirus को लेकर बड़ा खुलासा- एक नहीं, दो-दो महामारियों से जूझ रही दुनिया

News Nation Bureau | Edited By : Radha Agrawal | Updated on: 16 Jan 2022, 07:02:40 PM
Coronavirus

Coronavirus (Photo Credit: Pixabay )

नई दिल्ली :  

देश में कोरोना (corona) के मामले जैसे- जैसे बढ़ता जा रहा है. वैसे- वैसे लोगों में इसका डर भी बढ़ता जा रहा है. ओमीक्रॉन (Omicron) ने लोगों के मन में डर का भाव वापस से उत्पन्न कर दिया है. देश में कोरोना की तीसरी लहर भी शुरू हो चुकी है. जिसके चलते देश के कई राज्यों में लॉकडाउन लगने की भी सम्भावना बढ़ गई है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस बीच प्रसिद्ध वायरोलॉजिस्ट (virologist) और भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के पूर्व प्रमुख डॉ. टी जैकब जॉन (T Jacob John) ने ओमिक्रॉन को लेकर बड़ा खुलासा किया है. उनका कहना है कि देश एक नहीं बल्कि दो- दो महामारी से गुजर रहा है. उन्होंने डेल्टा द्वारा (delta variant)  और दूसरी ओमिक्रॉन के द्वारा बढ़ने वाले खतरे को दो महामारियां बताई है. जिनकी वजह से देश में इतनी तबाही मच रही है. 

आपको बता दें हाल ही में दक्षिण अफ्रीका (South Africa)में कोरोना के मामलों में कमी आई है. वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन की रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका में कोरोना संक्रमण की चौथी लहर में कुछ सुधार हुआ है. उम्मीद लगाई जा रही है कि आने वाले दिनों में पूरी तरह से मामला ठंडा हो जाएगा.  वैज्ञानिकों का कहना है कि ओमिक्रॉन के वंश का पता अभी तक नहीं लग पाया है लेकिन इसका वुहान -D614G से कुछ संबंध जरूर है जिससे यह महामारी की शुरुआत हुई थी.

 यह भी पढ़ें :Omicron: दक्षिण अफ्रीका के लिए राहत की खबर, चौथी लहर में आई शांति

डॉ. जैकब ने कहा कि कोविड19 जहां लोगों के श्वसन प्रणाली पर अटैक कर रहा था वहीं ओमिक्रॉन ज्यादातर मामलों में सिर्फ गले के क्षेत्र पर ही रुक जाता है. उन्होंने यह भी बताया है कि कोविड की तीसरी लहर का प्रभाव मेट्रो शहरों में ज्यादा देखने को मिल रहा है और संक्रमण के मामले जितनी तेजी से ऊपर जाएंग उतनी ही तेजी से ये नीचे भी गिरेंगे. और यह बात सच भी हो रही है. हालांकि उम्मीद लगाई जा रही है कि भारत में जल्द ही तीसरी लहर में भी सुधार देखने को मिलेगा. 

First Published : 16 Jan 2022, 06:45:30 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.