News Nation Logo

लॉकडाउन ने दुनिया के आधे युवाओं को डिप्रेशन में डाला, अंतरराष्‍ट्रीय श्रम संगठन के सर्वे का दावा

लगभग 8 महीने से दुनिया के कई देश लॉकडाउन में हैं. भारत में लॉकडाउन 24 मार्च से लागू हुआ, इस लिहाज से यहां अभी 6 माह ही हुए हैं. ऐसे में कई करोड़ लोग अपना जॉब खो चुके हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 16 Aug 2020, 10:41:55 PM
depression

लॉकडाउन ने दुनिया के आधे युवाओं को डिप्रेशन में डाला, ILO का सर्वे (Photo Credit: File Photo)

नई दिल्ली:

लगभग 8 महीने से दुनिया के कई देश लॉकडाउन (Lockdown) में हैं. भारत में लॉकडाउन 24 मार्च से लागू हुआ, इस लिहाज से यहां अभी 6 माह ही हुए हैं. ऐसे में कई करोड़ लोग अपना जॉब खो चुके हैं. लगातार घर में रहने से करोड़ों लोग तनाव और चिंता (Depression) का शिकार हो गये तो दूसरी ओर, वर्क फ्राम होम (Work from home) के दौरान लोगों को अधिक समय तक काम करना पड़ रहा है. असर यह है कि लोग कई तरह की गंभीर बीमारियों का शिकार हो गए हैं. ऐसे लोग गूगल पर तनाव और चिंता से उबरने के उपायों और दवाइयां सर्च कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें : अब मार्केट में आई यह नई बीमारी, कोरोना से बचाव में इसे इग्‍नोर न करें

अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के सर्वे में चौकाने वाले तथ्‍य सामने आए हैं. सर्वे के अनुसार, COVID-19 के दौरान दुनिया के 17% से अधिक लोग डिप्रेशन के शिकार हैं. हर दो में से एक युवा तनाव का शिकार हैं.

युथ एंड कोविड-19: इंपैक्ट ऑफ जॉब्स, एजुकेशन, राइट एंड मेंटल वेल बीइंग शीर्षक से प्रकाशित इस स्टडी में 112 देशों से 12,000 से अधिक लोगों की प्रतिक्रयाएं ली गईं. स्टडी में 18-29 वर्ष की आयु वर्ग के लोगों को शामिल किया गया. इन लोगों से रोजगार, शिक्षा, मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक कल्याण जैसे विषयों को शामिल किया गया.

यह भी पढ़ें : Covid-19: भारत में मृत्युदर घटकर 1.93 फीसदी हुई, ठीक हुए 72 फीसदी मरीज

रिपोर्ट में कहा गया है कि ऑनलाइन स्टडी में रेग्युलर क्लास की अपेक्षा 65 फीसदी कम सीखने को मिला है. 50% युवा छात्रों का कहना था कि उन्हें अपनी शिक्षा में देरी की आशंका है. जिससे वो तनाव से जूझ रहे हैं. 9% ने कहा कि उन्हें अपनी परीक्षा में 'फेल होने' की आशंका है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 16 Aug 2020, 10:41:55 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.