News Nation Logo

राज्यों को मुफ्त में मिलती रहेंगी कोरोना की वैक्सीन, केंद्र सरकार का फैसला

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा खरीदी गईं वैक्सीन की डोज राज्यों को मुफ्त में मुहैया कराई जाती रहेंगी.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 24 Apr 2021, 12:10:35 PM
Vaccine

राज्यों को मुफ्त में मिलती रहेंगी कोरोना की वैक्सीन, केंद्र का फैसला (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • राज्यों को मुफ्त मिलती रहेगी वैक्सीन
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया आदेश
  • कांग्रेस ने उठाए थे कीमत पर सवाल

नई दिल्ली:

देश में कोविड टीकाकरण के तीसरे चरण की शुरुआत 1 मई से होने जा रही है. तीसरे चरण में 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को टीका लगाया जाएगा. इसके लिए 28 अप्रैल से पंजीकरण शुरू होगा. इस बीच कोरोना वैक्सीन की कीमत को लेकर बवाल मचा हुआ है. बीते दिनों कांग्रेस ने सवाल उठाए थे और जमकर इस मसले पर सरकार को घेरा था. हालांकि शनिवार को केंद्र सरकार ने स्पष्ट किया है कि सभी राज्यों को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त में मिलती रहेंगी. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा खरीदी गईं वैक्सीन की डोज राज्यों को मुफ्त में मुहैया कराई जाती रहेंगी.

यह भी पढ़ें: LIVE: सीएम योगी का आदेश, यूपी के लिए एयरलिफ्ट की जाएगी ऑक्सीजन

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए देश में लगाई जा रही दोनों वैक्सीन को खरीदने की भारत सरकार की कीमत 150 रुपये प्रति डोज ही है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगे बताया कि  भारत सरकार द्वारा खरीदी गई वैक्सीन की डोज राज्यों को मुफ़्त में मुहैया कराई जाती रहेंगी.

देखें: न्यूज नेशन LIVE TV

दरअसल, बीते दिनों सीरम इंस्टीट्यूट ने भी कोविशील्ड वैक्सीन के दाम घोषित किए थे. लेकिन इसको लेकर एक नई बहस छिड़ गई थी. कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने ट्वीट कर दावा किया था कि सीरम इंस्टीट्यूट केंद्र सरकार और राज्य सरकारों को अलग-अलग दाम पर वैक्सीन दे रहा है, जो गलत है. ट्वीट में कांग्रेस नेता ने लिखा था, 'केंद्र सरकार को कोविशील्ड 150 रुपये प्रति डोज के हिसाब से मिलेगी. लेकिन राज्य सरकारों को 400 रुपये देने होंगे. ये संघीय ढांचे के लिए सही नहीं है. इससे राज्यों पर अतिरिक्त भार पड़ेगा. जो बिल्कुल गलत है. हम मांग करते हैं कि केंद्र-राज्य सरकारों के लिए एक देश, एक दाम तय किए जाएं.'

यह भी पढ़ें: सेना ने ONGC के अपहृत दो कर्मचारी को बचाया, तीसरे के लिए ऑपरेशन जारी

कांग्रेस नेता जयराम रमेश के इसी ट्वीट का भी जवाब शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया है. हालांकि आपको बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने घोषणा की थी कि कोविशिल्ड की प्रति खुराक राज्य सरकार को 400 रुपये में और निजी अस्पतालों को 600 रुपये में बेची जाएगी. कोविशिल्ड को पूरी दुनिया में एस्ट्रेजेनेका के रूप में जाना जाता है. एक भारतीय जैव प्रौद्योगिकी और फार्मास्यूटिकल्स कंपनी एसआईआई ने 1 मई से 18 वर्ष की आयु से ऊपर के सभी व्यक्तियों के टीकाकरण की अनुमति देने के बाद एक बयान जारी किया था.

First Published : 24 Apr 2021, 12:04:31 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो