News Nation Logo
Banner

लेड एक्सपोजर के कारण हो रही मौतों में इस देश का है चौथा स्थान

बांग्लादेश में सीसा विषाक्तिकरण (लेड पॉइजनिंग) के कारण दुनिया का चौथा सबसे ज्यादा मौतों का आंकड़ा सामने आया है, जहां औसत आबादी के रक्त का स्तर 6.83 यूजी/डीएल है, जो 11वीं सबसे ऊंची दर है.

IANS | Updated on: 31 Jul 2020, 04:14:12 PM
lead exposure

death rate due to lead (Photo Credit: (फोटो-Ians))

ढाका:

बांग्लादेश में सीसा विषाक्तिकरण (लेड पॉइजनिंग) के कारण दुनिया का चौथा सबसे ज्यादा मौतों का आंकड़ा सामने आया है, जहां औसत आबादी के रक्त का स्तर 6.83 यूजी/डीएल है, जो 11वीं सबसे ऊंची दर है. इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ मेट्रिक्स इवैल्यूएशन की रिपोर्ट में यह आंकड़ा सामने आया है. एक नई वैश्विक रिपोर्ट में कहा गया है कि बांग्लादेश में लेड पॉइजनिंग के मामले में सबसे गंभीर रूप से प्रभावित बच्चों की संख्या चौथे स्थान पर है.

बांग्लादेश को खुले में इस्तेमाल की जाने वाली लेड-एसिड बैटरी के अवैध पुनर्चक्रण (रिसाइकलिंग) के लिए जाना जाता है और यह लोगों के घरों के करीब ही होता है. यही काम सीसा की चपेट में आने (लेड एक्सपोजर) का कारण बनता है.

ये भी पढ़ें: देश में कोरोना रिकवरी रेट हुई 64.4 प्रतिशत: स्वास्थ्य मंत्रालय

यह बच्चों और वयस्कों दोनों के लिए स्वास्थ्य जोखिमों से भरा है. रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि बांग्लादेश में सीसे के कारण आईक्यू में कमी के कारण आर्थिक नुकसान देश की जीडीपी के 5.9 प्रतिशत के बराबर है.

बांग्लादेश में यूनिसेफ के प्रतिनिधि टोमू होजूमी ने कहा, लेड एक्सपोजर का बच्चों पर गंभीर और लंबे समय तक चलने वाला स्वास्थ्य एवं विकास पर प्रभाव पड़ता है. इसमें आजीवन सीखने की अक्षमता और बड़े होने पर आय अर्जित करने की उनकी क्षमता शामिल है. यूनिसेफ संबंधित व्यक्तियों के साथ मिलकर खतरनाक धातु अपशिष्ट और प्रदूषण से निपटने में मदद करेगा.

यूनिसेफ की कार्यकारी निदेशक हेनरीएटा फोर ने कहा, कुछ शुरूआती लक्षणों के साथ सीसा बच्चों के स्वास्थ्य और विकास पर संभवत: घातक परिणाम के साथ कहर बरपाता है.

प्योर अर्थ के अध्यक्ष रिचर्ड फुलर ने कहा, आशान्वित होने के लिए अच्छी खबर है. अच्छी खबर यह है कि श्रमिकों, उनके बच्चों और उनके आस-पास के इलाकों में सीसा का सुरक्षित रूप से पुनर्नवीनीकरण किया जा सकता है. लेड-दूषित साइटों को फिर से बनाया जा सकता है और पुनस्र्थापित किया जा सकता है.

उन्होंने कहा कि लोगों को उनके बच्चों की सुरक्षा के लिए और इससे होने वाले खतरों के बारे में शिक्षित किया जा सकता है, जिससे स्वास्थ्य में सुधार, उत्पादकता में वृद्धि, उच्च आईक्यू के साथ लाखों बच्चों का उज्जवल भविष्य सुनिश्चित किया जा सकता है.

बचपन में लेड एक्सपोजर से अनुमान है कि कम-और मध्यम-आय वाले देशों में बच्चे के उनके जीवनकाल में खोई हुई आर्थिक क्षमता के कारण लगभग एक खरब डॉलर का नुकसान होता है.

यह जानते हुए कि इसका कितना व्यापक प्रभाव है और इससे होने वाले विनाश को समझकर सभी के लिए बच्चों की सुरक्षा के लिए तत्काल कार्रवाई को प्रेरित करना चाहिए.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीसा एक शक्तिशाली न्यूरोटॉक्सिन है, जो बच्चों के दिमाग को अपूरणीय क्षति पहुंचाता है. शोध में यह भी पाया गया कि बांग्लादेश में मसालों में सीसे की उच्च मात्रा पाई गई है.

ये भी पढ़ें: अल्जाइमर रोग की पहचान के लिए रक्त जांच विकसित करने के करीब पहुंचे वैज्ञानिक

लीड क्रोमेट, जो कि गुणवत्ता के संकेत के रूप में हल्दी के रंग और वजन को बढ़ाने के लिए उपयोग किया जाता है, बच्चों और वयस्कों में समान रूप से उन्नत रक्त स्तर में योगदान देता है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सीसा-एसिड बैटरी की अनौपचारिक और घटिया रीसाइक्लिंग, कम और मध्यम आय वाले देशों में रहने वाले बच्चों में विषाक्तता के मामले में एक प्रमुख योगदानकर्ता है, जिसने 2000 के बाद से वाहनों की संख्या में तीन गुना वृद्धि का अनुभव किया है.

अक्सर श्रमिकों और आम नागरिकों को पता नहीं होता है कि सीसा एक शक्तिशाली न्यूरोटॉक्सिन है.

जिन माता-पिता के व्यवसाय में सीसे के साथ काम करना शामिल होता है, वे अक्सर अपने कपड़ों, बालों, हाथों और जूतों पर दूषित कणों को घर ले आते हैं और इस प्रकार अनजाने में उनके बच्चे ऐसे विषाक्त तत्व की चपेट में आ जाते हैं.

First Published : 31 Jul 2020, 04:14:12 PM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×