News Nation Logo
Banner

Antimicrobial कोरोना मरीजों में बढ़ा रहा फंगल इंफेक्शन का खतरा, ICMR ने चेताया

आईसीएमआर की हालिया रिसर्च में दावा किया गया है कि एंटीमाइक्रोबियल का अधिक इस्तेमाल कोरोना मरीजों में फिर से फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ा रहा है.

Written By : राजीव मिश्रा | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 04 Sep 2021, 10:16:33 AM
Antimicrobial

कोरोना मरीजों की दी जा रही दवाओं के साइड इफेक्ट. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • कोरोना मरीजों को दी जाने वाली दवाओं का साइड इफैक्ट
  • एंटीमाइक्रोबियल के ज्यादा इस्तेमाल से पैथोजेन बनते हैं
  • यही होते हैं दोबारा फंगल इंफेक्शन के लिए जिम्मेदार 

नई दिल्ली:

कोरोना संक्रमण (Corona Epidemic) के लिए जिम्मेदार म्यूटेंट लगातार अपना रूप-स्वरूप बदल रहे हैं. इसके आधार पर ही कोरोना से जंग के हथियार बनीं दवाएं और वैक्सीन (Corona Vaccine) भी अपनी-अपनी प्रभाविकता बढ़ाने के लिए तेजी से सुधार ला रहे हैं. फिलवक्त तो कोरोना संक्रमण से बचने के लिए कोविड-19 (COVID-19) टीका ही सबसे ज्यादा प्रभावी माना जा रहा है. हालांकि दुनिया भर के विज्ञानी कोरोना संक्रमित मरीजों के बेहतर इलाज के लिए दिन-रात शोध में जुटे हैं. उनकी इस जंग में कोरोना का डेल्टा वेरिएंट और उसके म्यूटेंट भारी सिरदर्द साबित हो रहे हैं. इस कड़ी में कोरोना मरीजों को दी जाने वाली दवाओं को लेकर अब आईसीएमआर (ICMR) ने भी एक बड़े खतरे से आगाह किया है. आईसीएमआर की हालिया रिसर्च में दावा किया गया है कि एंटीमाइक्रोबियल का अधिक इस्तेमाल कोरोना मरीजों में फिर से फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ा रहा है. 

क्या है एंटीमाइक्रोबियल... समझें
आईसीएमआर की रिसर्च से सामने आए खतरे को सामने लाई है एंटीमाइक्रोबियल रेसिस्टेंस रिसर्च एंड सर्विलांस नेटवर्क की सालाना रिपोर्ट. हालांकि इस रिसर्च का सार जानने से पहले यह जान लेना भी जरूरी है कि एंटीमाइक्रोबियल है क्या चीज? मेडिकल क्षेत्र में किसी जख्म को संक्रमण से बचाने या किसी बीमारी के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया को खत्म करने के लिए एंटीबायोटिक का इस्तेमाल होता है. इसी तर्ज पर इंसानों, जानवरों और पेड़-पौधों को फंगल इंफेक्शन से बचाने के लिए एंटीमाइक्रोबियल का प्रयोग किया जाता है. इसका अधिक इस्तेमाल ही अब फंगल इंफेक्शन से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित कर रहा है.

यह भी पढ़ेंः अफगानिस्तान से सेना वापसी पर अमेरिका और यूरोप में दरार, जानें पूरी वजह

बचाव का रास्ता भी दिखाया आईसीएमआर ने
आईसीएमआर की रिसर्च के मुताबिक एंटीमाइक्रोबियल के ज्यादा इस्तेमाल से पैथोजेन बनते हैं. यानी इस प्रक्रिया में उस बैक्टीरिया और फंगस का जन्म होता है, जो दोबारा फंगल इंफेक्शन के लिए जिम्मेदार होता है. आमतौर पर फंगल इंफेक्शन दवाई के इस्तेमाल के बाद भी जल्दी खत्म नहीं होते हैं. इसे विज्ञान कि भाषा में एंटी माइक्रोबियल रेजिस्टेंस कहा जाता है. इस पैथोजेन के चलते मरीजों में निमोनिया और युरिनरी ट्रैक में संक्रमण सामने आता है. ऐसे में अब आईसीएमआर की रिसर्च में चिंता जताई गई है कि कोरोना संक्रमण के चलते फंगल इंफेक्शन का खतरा भी साथ-साथ बढ़ रहा है. आईसीएमआर ने रिसर्च के लिए दिल्ली के अलग-अलग 30 सेंटरों से डाटा एकत्रित किया था. हालांकि राहत की बात यह है कि आईसीएमआर ने यह भी बताया है कि फंगल इंफेक्शन के लिए जिम्मेदार पैथोजेन का उपचार कैसे किया जा सकता है. इसके मुताबिक एसिनेटोबैक्टर बॉमनी और क्लेबसिएला न्यूमोनिया जैसे रोगजनक भी हैं जो दवा प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा रहे हैं.

First Published : 04 Sep 2021, 10:14:50 AM

For all the Latest Health News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.