News Nation Logo

पूरी तरह से भारतीय प्लेटफॉर्म है Koo, जानिए कंपनी के फाउंडर ने और क्या बातें कहीं

Koo के सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा कि एक फाउंडर के तौर पर मैं एक भारतीय हूं, मेरे को-फाउंडर भी भारतीय हैं और हम जिस चीज का विकास कर रहे हैं, उससे हम गहराई से जुड़े हुए हैं और इसी के चलते हमारा मार्केट भी वजूद में है.

IANS | Updated on: 12 Feb 2021, 01:14:30 PM
Koo App

Koo App (Photo Credit: newsnation)

highlights

  • कू के एक फाउंडर के तौर पर मैं एक भारतीय हूं, को-फाउंडर भी भारतीय: सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण  
  • राजनीतिक संबंध होने या संगठित रूप से राजनीतिक भागीदारी होने की बातें सम्पूर्ण रूप से गलत

न्यूयॉर्क :

Koo App Latest News: भारत के बहुभाषी माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू की हाल में डेटा प्राइवेसी को लेकर आलोचना की गई थी और साथ में यह भी बात सामने आई थी कि इनके निर्माताओं में चीनी निवेशक भी शामिल हैं. ऐसे में लोगों के सामने इसे बेहतर तरीके से पेश करने का इनका प्रयास जारी है. कू के सह-संस्थापक अप्रमेय राधाकृष्ण ने कहा कि एक फाउंडर के तौर पर मैं एक भारतीय हूं, मेरे को-फाउंडर भी भारतीय हैं और हम जिस चीज का विकास कर रहे हैं, उससे हम गहराई से जुड़े हुए हैं और इसी के चलते हमारा मार्केट भी वजूद में है. हमारी कंपनी दस महीने पुरानी है, ऐसे में कुछ शुरुआती परेशानियां तो आएंगी ही. देश भर के सभी यूजर्स से हमें जिस कदर प्यार मिला है, उससे हम हैरान हैं और हम चाहते हैं कि हमारे इस शुरुआती सफर में वे हमारे साथ रहें. चीनी निवेशकों के शामिल होने की बात पर कू की टीम ने कहा, "यह बात सही नहीं है. कू पूरी तरह से बॉम्बिनेट टेक्नोलॉजीस प्राइवेट लिमिटेड के अधीन है और यह सिर्फ भारत में ही संचालित है. सभी डेटा और संबंधित सर्वर भी भारत से ही चलाए जाते हैं. बेंगलुरू में कंपनी का मुख्यालय है.

यह भी पढ़ें: Zebronics ने वायरलेस सबवूफर के साथ डॉल्बी एटमॉस साउंडबार किया लॉन्च

निवेशकों में एक्टेल पार्टनर्स, 3वन4 कैपिटल, ब्लूम वेंचर्स और कलारी कैपिटल शामिल
आज की तारीख में कू के निवेशकों में एक्टेल पार्टनर्स, 3वन4 कैपिटल, ब्लूम वेंचर्स और कलारी कैपिटल शामिल हैं. राधाकृष्ण ने कहा कि कू की संरचना में शामिल चीनी निवेशक शुनवेई से कंपनी से बाहर जाने का फैसला ले लिया है. कू को उम्मीद है कि इस मुद्दे को लगभग एक ही महीने की समयावधि में हल कर लिया जाएगा. राधाकृष्ण ने आगे कहा कि भारत में चीनी निवेशकों पर बढ़ते प्रतिबंधों के चलते कंपनी से शुनवेई के बाहर निकलने की प्रक्रिया को उपयुक्त जांच और स्पष्टीकरण से होकर गुजरना होगा. वेरिफिकेशन की बात पर टीम ने कहा, "हमारा वेरिफिकेशन लोकप्रियता के बजाय प्रामाणिकता पर आधारित है इसलिए हम अपने समकालीनों के मुकाबले अधिक पारदर्शिता के साथ अकाउंट्स को वेरिफाई करने में सक्षम हैं. एक प्लेटफॉर्म के तौर पर हमारी इच्छा इसे और बेहतर ढंग से पेश करने की है और हर कोई इसका उपयोग कर सके इसके लिए हम कुछ नियमों की भी पेशकश करेंगे.

यह भी पढ़ें: भारत में लाइव हो गया Twitter का Clubhouse जैसा Spaces फीचर

पॉलिटिकल एक्सपोजर पर टीम ने कहा कि राजनीतिक संबंध होने या संगठित रूप से राजनीतिक भागीदारी होने की बातें सम्पूर्ण रूप से गलत हैं. हम एक ऐसे प्लेटफॉर्म का संचालन कर रहे हैं, जो समस्त भारतीयों के लिए अनुकूल हो. एक देसी कंपनी होने के नाते हम भारतीय संविधान और कानूनों का पालन करने के लिए बाध्य हैं। हम इसे एक ऐसे मंच के रूप में पेश करना चाहते हैं, जो लोगों का, लोगों के द्वारा और लोगों के लिए हो. फिलहाल, रवि शंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, बी. एस. येदियुरप्पा, शिवराज सिंह चौहान, एचडी देवगौड़ा, एचडी कुमारस्वामी, प्रियांक खड़गे हमारे प्लेटफॉर्म से जुड़े हैं और हम निश्चित हैं कि आने वाले दिनों में और भी कई राजनीतिक दिग्गज अपने प्रांतीय ऑडियंस संग हमारे मंच के साथ जुड़ेंगे.

यह भी पढ़ें: देसी KOO क्‍या ले पाएगा भारत में Twitter की जगह? अब तक जुड़ चुके हैं ये सेलिब्रिटिज, जानें खूबियां

तकनीक से जुड़े मुद्दों पर टीम ने स्पष्टीकरण देते हुए कहा, "कू के बारे में डेटा ब्रीच होने की बात को बढ़ा-चढ़ाकर कहा गया है. कू के 95 फीसदी यूजर्स अपने मोबाइल फोन नंबर के माध्यम से लॉग इन करते हैं. लैंग्वेज कम्युनिटी के लोग ईमेल से लॉग इन नहीं करते हैं. ईमेल लॉग इन का इजात हाल ही में हुआ है. जो डेटा पहले से ही सार्वजनिक है, उसे ब्रीच करार देना सही नहीं है. सेशन टोकन मैनेजमेंट से जुड़े कुछ मुद्दे थे, जिन्हें सुलझा लिया गया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 12 Feb 2021, 01:14:30 PM

For all the Latest Gadgets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो