News Nation Logo

ट्रेन में नींद लेकर सफर करने पर देना पड़ सकता है 10 फीसदी अधिक किराया, जानिए सच्चाई

अगर आप ट्रेन (Train) से सफर करते हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है. क्योंकि आप भी इस खबर की वजह से अपना कोई प्लान बिगाड़ सकते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 13 Mar 2021, 05:42:03 PM
indian railway

क्या ट्रेन में नींद लेकर सफर करने पर देना होगा 10% अधिक किराया? (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

अगर आप ट्रेन (Train) से सफर करते हैं तो यह खबर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है. क्योंकि आप भी इस खबर की वजह से अपना कोई प्लान बिगाड़ सकते हैं. दरअसल, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया जा रहा है कि रेलवे अपने सिस्टम में बड़े बदलाव की तैयारी कर रहा है. जो यात्री ट्रेन में नींद लेकर सफर करना चाहें तो रेलवे उन यात्रियों से 10 फीसदी अधिक किराया वसूल सकता है. इसको लेकर प्रस्ताव लाए जाने की बात भी कही जा रही है. लेकिन इस खबर की सच्चाई क्या है. इस बारे में केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने इसका फैक्ट चैक किया है.

यह भी पढ़ें : अब मदरसों में भी पढ़ाई जाएगी गीता, रामायण और योग, जानिए कितनी सच्चाई है खबर में

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ अधिकारियों ने रेलवे के सिस्टम में बदलाव की रूप रेखा परिवर्तन संगोष्ठी में रखी है. इसमें 5-5 प्रमुख प्रस्ताव रेलवे में सर्कुलेट किए गए. बताया जा रहा है कि इसमें एक प्रस्ताव यह भी दिया गया कि जो यात्री ट्रेन में नींद लेकर सफर करना चाहें, रेलवे उनसे 10% अधिक किराया वसूल सकता है. जिसका दावा मीडिया रिपोर्ट्स में किया जा रहा है. 

देखें : न्यूज नेशन LIVE TV

मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया कि बेडरोल के 25 रुपये को 60 रुपये करने का भी सुझाव दिया गया है. रेलवे बोर्ड के एक अधिकारी के प्रस्ताव को भी टॉप-5 में रखा गया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अधिकारी ने रेलवे से कहा कि ऐसी कोच में दिए जाने वाले बेडरोल का किराया पिछले 15 साल से 25 रुपये ही वसूला जा रहा है. लेकिन बाजार कीमतों के चलते अब इसे 55 से 60 रुपये किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें : Fact Check: CBSE ने 10वीं कक्षा के सोशल साइंस सिलेबस में की कटौती, जानें क्या है सच

हालांकि इस तरह के दावे को केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो (पीआईबी) ने भ्रामक बताया है. पीआईबी फैक्ट चैक ने अनुसार, यह दावा भ्रामक है. यह केवल रेलवे बोर्ड को दिया गया एक सुझाव था. रेलवे मंत्रालय ने ऐसी कोई घोषणा नहीं की है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 13 Mar 2021, 05:42:03 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.