News Nation Logo
Banner

क्या है चोरी-छिपे मोबाइल चलाती अफ़गानी महिला का सच ?

सोशल मीडिया पर 10 सेकंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमें एक महिला सावर्जनिक जगह पर चोरी छिपे मोबाइल चलाती दिखाई दे रही है...मोबाइल छिपाने के लिए महिला एक पॉलिथीन बैग का इस्तेमाल कर रही है..

Vinod Kumar | Edited By : Sunder Singh | Updated on: 13 Sep 2021, 08:14:03 PM
mobial 222

woman moving mobile (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • न्यूज नेशन की पड़ताल में सच आया सामने 
  • पकड़ी गई महिला को तालिबानी लड़ाकों ने दी 100 कोड़ों की सजा?
  •  सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा वीडियो

New delhi:

सोशल मीडिया पर 10 सेकंड का एक वीडियो वायरल हो रहा है. जिसमें एक महिला सावर्जनिक जगह पर चोरी छिपे मोबाइल चलाती दिखाई दे रही है...मोबाइल छिपाने के लिए महिला एक पॉलिथीन बैग का इस्तेमाल कर रही है.. लेकिन इस दौरान इसका वीडियो बना लिया जाता है, दावा किया जा रहा है कि तालिबानी लड़ाकों ने इसे मोबाइल चलाते पकड़ लिया, जिसके बाद महिला को 100 कोड़ों की सजा दी गई. वायरल वीडियो अफ़गानिस्तान के जलालाबाद का बताया जा रहा है. वीडियो को (whatsapp)पर शेयर करते हुए लिखा गया "शुक्र मनाओ हम भारत में हैं.. देखो तालिबान ने औरतों की क्या हालत कर दी है, महिलाएं फोन पर बात तक नहीं कर पाती, छुप-छुपाकर बातें करनी पड़ रही हैं, कहां हो तालिबान का समर्थन करने वालो, अब कहो भारत में भी शरीयत चाहिए"

यह भी पढें:क्या है मुल्ला बरादर की मौत वाले ऑडियो संदेश की सच्चाई..क्या बोला तालिबान?

अफ़गानिस्तान में इस वक़्त महिलाओं से लेकर छोटी-छोटी बच्चियों तक पर कड़ी पाबंदियां हैं. महिलाओं को ना गाने-बजाने की छूट है और ना ही स्पोर्ट्स एक्टिविटी में शामिल होने की, लेकिन क्या वो मोबाइल का इस्तेमाल भी नहीं कर पा रही है और क्या चोरी-छिपे मोबाइल चलाने पर इस महिला को 100 कोड़ों की सज़ा दी गई...इस का सच जानने के लिए कुछ की-वर्ड्स की मदद से हमने इंटरनेट पर सर्च किया..तो हम 'लवर्स ऑफ द सेक्रेटरी-जनरल ऑफ द काउंसिल ऑफ मिनिस्टर्स मिस्टर अली अल-अलाक' नाम के एक फेसबुक अकाउंट पर पहुंचे..जहां वायरल हो रहा वीडियो पहले से मौजूद था.. 

https://www.facebook.com/1484613518429875/videos/1566788486879044/?__so__=watchlist&__rv__=video_home_www_playlist_video_list

क्या सच आया सामने ?
वीडियो को अपलोड करने की तारीख थी 27 मार्च 2014 यानि अब से करीब 7 साल पहले से ये वीडियो इंटरनेट पर मौजूद है. वीडियो के साथ दिए गए डिस्क्रिप्शन के मुताबिक वीडियो इराक़ का है. हमने कैप्शन में दी गई इस जानकारी की पुष्टि करने की कोशिश की...लेकिन ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली, जो इसकी सही लोकेशन बताती हो. लेकिन हमारी पड़ताल से इतना साफ हो गया कि वीडियो हाल-फिलहाल का नहीं है और ना ही इसका तालिबान से कुछ लेना-देना है.

First Published : 13 Sep 2021, 07:41:53 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.