News Nation Logo
Banner
Banner

Fact Check: क्या भारत सरकार ने शुरू की है वर्क फ्रॉम होम, जानें सच

मैसेज में आगे दावा किया गया है कि, एक दिन में 2,000 से 10,000 रुपये तक की कमाई होगी. हर दिन अपना कैश निकाल सकेंगे. इस अवसर को न गंवाएं और हर दिन 10,000 रुपये कमाएं. ज्यादा जानकारी के लिए कस्टमर सर्विस से व्हाट्सऐप wa.me/906380174859 पर संपर्क करें.

News Nation Bureau | Edited By : Ritika Shree | Updated on: 23 Aug 2021, 11:42:50 PM
Fact Check

फैक्ट चेक (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • मैसेज में दावा किया गया है कि, एक दिन में 2,000 से 10,000 रुपये तक की कमाई होगी
  • मैसेज में आगे दावा किया गया है कि बस 5 मिनट की ट्रेनिंग होगी और आप पैसे कमाने लग जाएंगे
  • पीआईबी की ओर से जब इसकी पड़ताल की गई है तो पता चला ये खबर सही नहीं है

नई दिल्ली:

कोरोना महामारी के इस दौर में वर्क फ्रॉम होम अब एक सामान्य बात हो गई है. देश में कई बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधाए दे रही है. लेकिन इन दिनों व्हाट्सऐप पर एक मैसेज तेजी से वायरल हो रहा है, मैसेज में यह कहा गया है कि कोरोना महामारी के प्रभावों को देखते हुए किंग ऑफ सैडोज (कंपनी का नाम) ने भारत सरकार के साथ गठजोड़ कर 2021 में पैसे कमाने का नया मॉडल तैयार किया है. इसमें रजिस्ट्रेशन कराने पर लोगों को 50 रुपये मिलेंगे. इसका काम शुरू करने के लिए एक मोबाइल फोन और स्टार्टअप पूंजी के तौर पर 300 रुपये की जरूरत होगी. बस 5 मिनट की ट्रेनिंग होगी और आप पैसे कमाने लग जाएंगे.

यह भी पढ़ेः Fact Check: पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का अकाउंट हो रहा वायरल ! जानें क्या है सच

इस मैसेज में आगे दावा किया गया है कि, एक दिन में 2,000 से 10,000 रुपये तक की कमाई होगी. हर दिन अपना कैश निकाल सकेंगे. इस अवसर को न गंवाएं और हर दिन 10,000 रुपये कमाएं. ज्यादा जानकारी के लिए कस्टमर सर्विस से व्हाट्सऐप wa.me/906380174859 पर संपर्क करें. भारत सरकार की समाचार संस्था प्रेस इनफॉरमेशन ब्यूरो (पीआईबी) की ओर से जब इसकी पड़ताल की गई है तो पता चला ये खबर सही नहीं है. इस पर पीआईबी ने ट्वीट कर लिखा कि, एक व्हाट्सऐप मैसेज में दावा किया जा रहा है कि भारत सरकार के साथ मिलकर एक संस्था लोगों को वर्क फ्रॉम होम काम करने का अवसर दे रही है. यह दावा पूरी तरह से फर्जी है और भारत सरकार ने ऐसा कोई ऐलान नहीं किया है. इस तरह के फ्रॉड लिंक में खुद को न फंसाएं. सरकार ने इस मैसेज को फेक बताते हुए लोगों से आग्रह किया है कि वे किसी भी फर्जीवाड़े वाले लिंक पर क्लिक न करें क्योंकि इससे वित्तीय हानि हो सकती है.

यह भी पढ़ेः क्या है भागते अफ़गानियों के एनकाउंटर वाले वायरल वीडियो का सच ?

फेक न्यूज से निपटने के लिए पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) ने केंद्र सरकार के मंत्रालयों, विभागों और योजनाओं के बारे में खबरों का सत्यापन करने के लिए एक 'तथ्य जांच इकाई' गठित की है जिसे पीआईबी फैक्ट चेक टीम कहा जाता है. पीआईबी फैक्ट चेक टीम द्वारा आप भी किसी भी संदेश की सत्यता की जांच करा सकते हैं. इसके तहत मीडिया में सरकार और सरकारी योजनाओं से जुड़ी खबरों की सच्चाई का पता लगाया जाता है. अगर आपके पास भी कोई डाउटफुल खबर है तो आप उसे factcheck.pib.gov.in या फिर वॉट्सऐप नंबर +918799711259 या ईमेलः pibfactcheck@gmail.com पर भेज सकते हैं. इसके बारे में ज्यादा जानकारी पीआईबी की वेबसाइट pib.gov.in पर भी उपलब्ध है.

First Published : 23 Aug 2021, 11:42:50 PM

For all the Latest Fact Check News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.