logo-image
लोकसभा चुनाव

Maharaj Review: आमिर खान के बेटे जुनैद की एक्टिंग में नहीं दिखा दम, जानें कैसी है फिल्म की कहानी?

फिल्म महाराज गुजराती पत्रकार और समाजसेवी करसनदास मुलजी पर बनी है, जो लैंगिक समानता, महिलाओं के अधिकारों और सामाजिक बदलाव के कट्टर समर्थक थे.

Updated on: 22 Jun 2024, 06:21 PM

नई दिल्ली:

Maharaj Review: आमिर खान (Aamir Khan) के बेटे जुनैद खान (Junaid Khan) की फिल्म महाराज (Maharaj)  नेटफ्लिक्स (Netflix) पर रिलीज कर दी गई है. फिल्म में जुनैद खान के अलावा जयदीप अहलावत (Jaideep Ahlawat) और शालिनी पांडे (Shalini Pandey) लीड रोल में हैं. फिल्म की कहानी सौरभ शाह  की किताब महाराज पर आधारित है. यह फिल्‍म उस समय के प्रख्यात गुजराती पत्रकार और समाजसेवी करसनदास मुलजी पर बनी है, जो लैंगिक समानता, महिलाओं के अधिकारों और सामाजिक बदलाव के कट्टर समर्थक थे. आइए जानते हैं कैसी है जुनैद खान की फिल्म महाराज?

क्या है महाराज की कहानी?

महाराज की कहानी करसन (जुनैद खान) और जेजे (जयदीप अहलावत) की है. करसन समाज में सुधार लाना चाहता है. वह जाति-पांति नहीं मानता. विधवा विवाह में यकीन करता है. वहीं, जेजे एक संप्रदाय का प्रमुख है और वह धर्म के नाम पर लोगों के अंधविश्वास से खेलता है और लड़कियों का गलत फायदा उठाता है. फिर जेजे की वजह से करसन की जिंदगी में तूफान आ जाता है और करसन जेजे की हकीकत लोगों को दिखाने और उसकी काली दुनिया को खत्म करने के लिए निकल पड़ता है. ये फिल्म धर्म और अंधविश्वास के नाम पर लड़कियों को ठगे जाने की कहानी है. फिल्म का निर्देशन सिद्धार्थ पी मल्होत्रा ने किया है जो, फिल्म का कमजोर बनाता है.  फिल्‍म महाराज के पक्ष को भी बहुत प्रभावी तरीके से नहीं दिखा पाती है. सब कुछ सपाट तरीके से होता जाता है.

 
 
 
 
 
View this post on Instagram
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Netflix India (@netflix_in)

महाराज में कलाकारों की एक्टिंग

आमिर खान के बेटे जुनैद खान की एक्टिंग की बात उन्होंने अपने एक्सप्रेशंस पर अच्छे से काम किया है और किरदार में काफी गहरे तक उतरे हैं. हालांकि उन्हें थीएटर छोड़  सिनेमा के भाव को पकड़ना होगा. वहीं, जयदीप अहलावत ने एक बार फिर दिखा दिया है कि एक्टिंग के मामले में उनका कोई तोड़ नहीं है. जयदीप अहलावत ने जेजे के कैरेक्टर को जोरदार पकड़ा है. फिल्म में शालिनी पांडे ने भी अपने किरदार को अच्छे से पकड़ा है. हालांकि शरवरी वाघ गुजराती शैली और अंदाज से प्रभावित नहीं कर पाई, उनका  डायलॉग डिलिवरी बेहद कमजोर नजर आया.

फिल्म को लेकर हुआ विवाद

बता दें, महाराज फिल्म का रिलीज से पहले ना टीजर और ना ही ट्रेलर सामने आया. फिल्म को लेकर कोई प्रमोशन भी नहीं किया गया. इसकी वजह ये रही कि फिल्म को विवाद का सामना करना पड़ा. दरअसल, विश्व हिन्दू परिषद के बजरंग दल ने मेकर्स को चेतावनी दी थी और उनकी मांग थी कि फिल्म रिलीज से पहले उन्हें दिखाई जाए. क्योंकि उनका मानना था कि 'महाराज' में हिन्दू धर्म के लीडर को लेकर कुछ नेगेटिव बातें दिखाई गई हैं, साथ ही फिल्म में साधु संत और वल्लभ संप्रदाय की बदनामी की गई है. ऐसे में समिति ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर फिल्म की वजह से कानून व्यवस्था बिगड़ी तो इसके लिए यशराज फिल्म्स और नेटफ्लिक्स जिम्मेदार होंगे.

ये भी पढ़ें- Maharaj: विवादों में फंसी आमिर खान के बेटे जुनैद की पहली फिल्म, जानें किस वजह से उठ रही बैन की मांग?