logo-image
लोकसभा चुनाव

गुलाम नबी आजाद का लोकसभा चुनाव न लड़ने का ऐलान, एक दिन पहले कांग्रेस को लेकर दिया था ये बयान

Lok Sabha Election: गुलाम नबी आजाद अब अनंतनाग से लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. उन्होंने बुधवार को चुनाव न लड़ने का ऐलान किया.

Updated on: 17 Apr 2024, 07:18 PM

highlights

  • लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे गुलाम नबी आजाद
  • DPAP ने अनंतनाग सीट से बनाया था उम्मीदवार
  • हाल ही में कांग्रेस पर कसा था तंज

नई दिल्ली:

Lok Sabha Election 2024: गुलाम नबी आजाद ने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान किया है. इसी के साथ उन्होंने अनंतनाग सीट से अपना नाम वापस ले लिया है. आजाद को उनकी ही पार्टी डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव आजाद पार्टी (डीपीएपी) ने अनंतनाग बारामूला लोकसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा था. लेकिन चुनाव से ठीक पहले ही उन्होंने चुनाव लड़ने से इनकार कर दिया. गुलाम नबी आजाद ने अनंतनाग में पार्टी बैठक के दौरान लोकसभा चुनाव न लड़ने की घोषणा की. आजाद के चुनाव न लड़ने की घोषणा के बाद अब इस सीट पर नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी के बीच सीधा मुकाबला होगा.

ये भी पढ़ें: Lok Sabha Election: पहले चरण के लिए थमा चुनाव प्रचार, 19 अप्रैल को इतनी सीटों पर मतदान

हालांकि, बीजेपी ने अनंतनाग-बारामूला सीट से अभी तक अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान नहीं किया है. हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जम्मू में कहा कि कश्मीर में बीजेपी कोई जल्दबाजी में नहीं है. वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और बारामूला से नेशनल कॉन्फ्रेंस के उम्मीदवार उमर अब्दुल्ला ने उम्मीदवार के नाम का ऐलान न करने पर बीजेपी पर तंज कसा और कहा कि बीजेपी को कश्मीर में अपनी हार का एहसास है इसलिए वह नहीं लड़ रही है.

ये भी पढ़ें: IPL 2024 : दिल्ली कैपिटल्स ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, डेविड वॉर्नर हुए प्लेइंग 11 से बाहर

आजाद ने कांग्रेस पर कसा था तंज

बता दें कि हाल ही में गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस पर तंज कसा था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस ही बीजेपी को जीतने का मौका दे रही है. आजाद के इस तंज पर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने पलटवार करते हुए कहा था कि बीजेपी से नजदीकियां तो किसी और की दिखती हैं. उन्होंने आजाद के राजसभा में आखिरी दिन को याद करते हुए कहा कि किस तरह से उनके रिटायरमेंट पर ड्रामा हुआ था उसके बाद किस तरह से बाद में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया.

ये भी पढ़ें: TMC election manifesto: TMC का घोषणापत्र जारी, CAA-NRC पर बड़ा वादा

कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने आगे कहा कि किस तरह से वे अभी भी बंगलों में रुके हुए हैं. बता दें कि एक समय था जब गुलाम नबी आजाद कांग्रेस के कद्दावर नेताओं में गिने जाते थे. वह 2005 से 2008 तक जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रहे. आजाद ने 26 अगस्त 2022 को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था.