logo-image
लोकसभा चुनाव

Lok Sabha Election 2024: दो रुपए में करें असली-नकली वोटर की पहचान, EC ने किया धांसू इंतजाम

Lok Sabha Eelection 2024: मतदान केंद्रों पर कोई गड़बड़ी न हो, कोई फर्जी वोटर वोट डाल के न चला जाए और तमाम तरह की धांधली को रोकने के लिए इस बार चुनाव आयोग ने मजबूत इंतजाम किए हैं.

Updated on: 19 Apr 2024, 12:32 PM

New Delhi:

Lok Sabha Eelection 2024: देश में लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर आज (19 अप्रैल) को प्रथम चरण  के लिए मतदान जारी है. इस बीच चुनाव आयोग की तरफ से सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. चुनाव आयोग ने इस बार फर्जी मतदान को रोकने के लिए भी कड़े इंतजाम किए हैं. क्योंकि वोटिंग के दिन पोलिंग बूथ पर अक्सर फर्जी मतदान की शिकायतें सामने आती हैं.  ऐसे में निर्वाचन आयोग ने वोटिंग के दिन फेक वोटर की पहचान के लिए दिशा निर्देश जारी किए हैं. नई गाइडलाइन के अनुसार किसी भी अब किसी भी उम्मीदवार का एजेंट फर्जी वोटर की पहचान करने के लिए दो रुपए की रशीद कटवाकर उसे चैलेंज कर सकता है. मतलब यह है कि केवल दो रुपए में अब यह पता चल जाएगा कि वोटर असली है या नकली. 

यह खबर भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: विश्व की सबसे छोटे कद वाली महिला ने डाला वोट, की वोट डालने की अपील

चुनाव आयोग की गाइडलाइन के अनुसार फेक वोटर का पता लगाने के लिए एजेंट को पीठासीन अधिकारी से संपर्क करना होगा. पीठासीन अधिकारी वोटर से उसकी व्यक्तिगत जानकारी (नाम, पिता का नाम, घर में कितने वोटर आदि) के विषय में सवाल करेगा. संतुष्टि न मिलने के केस में क्षेत्र के पार्षद या प्रधान से वोटर की पहचान कराई जाएगी. इस बीच अगर वोटर साबित कर देता है कि वह असली मतदाता है, तो उसको मताधिकार का अवसर मिलेगा. अगर वह ऐसा करने में विफल रहता है तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जा सकता है. 

यह खबर भी पढ़ें- UP: अमरोहा में बोले PM मोदी- 2024 का लोकसभा चुनाव देश के भविष्य का चुनाव है

वहीं, दूसरी और अगर कोई वोटर पोलिंग बूथ पर वोट डालने जाता है, लेकिन वह पाता है कि उसका वोट कोई पहले ही डाल चुका है तो वह टेंडर वोट का सहारा ले सकता है. इसके लिए उसको पीठासीन अधिकारी से संपर्क करना होगा. अगर वोटर लिस्ट में उसका नाम निकलता है तो पीठासीन अधिकारी एक प्रपत्र पर वोट डलवा सकता है.  इसके बाद की प्रक्रिया में मत पत्र को लिफाफे में बंद कर काउंटिंग के समय खोला जाता है. अक्सर ऐसे वोट उस समय काम आते हैं जब उम्मीदवारों के बीच जीत-हार का अंतर बहुत कम रहता है.