logo-image
लोकसभा चुनाव

चार चरणों के चुनाव में इंडिया गठबंधन चारों खाने चित हो चुका है... अंबाला में बोले पीएम मोदी

Lok Sabh Election 2024: हरियाणा के अंबाला में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जनता जर्नादन के आशीर्वाद से पार्टी को बड़ी जीत मिलने वाली है

Updated on: 18 May 2024, 04:09 PM

नई दिल्ली:

Lok Sabh Election 2024: पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने शुरुआती भाषण में अंबाला की धरती को प्रणाम किया. पीएम बोले, आज अंबाला के आसमान में जब राफेल के विमान उड़ते हैं, तो आपको गर्व होता है कि नहीं. आज मैं आपसे अगले पांच साल के लिए आशीर्वाद मांगता हूं. 4 जून को अब सिर्फ 17 दिन ही बचे हैं. चार चरणों के चुनाव इंडिया गठबंधन और उनके सभी विपक्षी दल चारों खाने चित हो चुके हैं. जनता जनार्दन ने खुद पटखनी दे दी है. देश का पहला घाटाला कांग्रेस ने सेना में किया था. जब तक कांग्रेस सत्ता में रही तब तक कांग्रेस कई घोटले में संलिप्त रही. इस तरह से कांग्रेस ने देश को कमजोर बनाने का काम किया.

ये भी पढ़ें: AAP ने जारी किया स्वाति मालीवाल का नया सीसीटीवी Video, पूछा-'यह क्या गेम है?'

विदेश में अपने हथियार बेच रहा है भारत

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, 'हमारे सैनिको की छोटी-छोटी जरूरतों को भाजपा सरकार ने समझा है. मोदी सरकार जब आई तो देश को आत्मनिर्भर बनाने का काम किया. अब हथियार देश में ही बन रहे हैं. अब भारत विदेश में अपने हथियार बेच रहा है. चार दशक तक कांग्रेस ने सेना को वन रैक वन पेंशन के लिए तरसाती रही. मगर जाते-जाते कांग्रेस ने बजट में पेंशन के लिए 500 करोड़ का प्रस्ताव रखा और कहते थे हमने ये काम कर दिया. जब हमें आपने सेवा करने का अवसर दिया तो मोदी सरकार वन रैंक वन पेंशन का वादा पूरा किया. इसके लिए हमने अब तक एक लाख 20 करोड़ रुपये सैनिक परिवारों तक पहुंचाया जा चुका है.' 

तीन गुना आनाज एमएसपी पर खरीदा गया

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, 'किसानों का कल्याण पीएम मोदी की प्राथमिकता है. मोदी विकसित भारत का संकल्प लेकर निकला है, इसमें हरियाणा के भी संस्कार हैं. आज आपको गारंटी देता हूं आज मेरा सपना ही आपका सपना है. कांग्रेस के जमाने यानि दस साल में सिर्फ साढ़े सात लाख करोड़ का अनाज एमएसपी पर खरीदा गया था. वहीं भाजपा की सरकार में दस साल में 20 लाख करोड़ रुपये का आनाज खरीदा था यानी तीन गुना आनाज एमएसपी पर खरीदा गया. पहले तो पैसे मिलने में भी कई-कई महीने लगते थे. कांग्रेस ने गन्ना किसानों को धोखा दिया है. 2014 में जब हम लोग आए तब गन्ने का बकाया 60 हजार करोड़ रुपये था. जबकि इसी साल एक लाख 14 हजार करोड़ रुपये की पेमेंट की है. '