News Nation Logo
Banner

कोरोना के कारण महाराष्ट्र सरकार ने टाली बोर्ड परीक्षाएं, लॉकडाउन पर भी आज होगा फैसला

महाराष्ट्र में इस खतरनाक वायरस से हालात बहुत खराब हो चुके हैं. राज्य में पिछले 24 घंटे में 63 हजार 294 नए कोरोना मरीज मिले हैं. रविवार को दुनिया में कहीं भी इतने केस नहीं दर्ज हुए.

News Nation Bureau | Edited By : Karm Raj Mishra | Updated on: 12 Apr 2021, 03:55:49 PM
Exam

Exam (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • राज्य में कोरोना से हालात काफी खराब हुए
  • अस्पतालों में बेड्स की कमी सामने आई
  • 24 घंटे में 63 हजार से ज्यादा मरीज मिले

नई दिल्ली:  

देश में कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर बड़ी तेजी के साथ बढ़ रही है. इस महामारी (COVID-19) के कारण एक बार फिर हालात एक बार फिर से बेकाबू होते जा रहे हैं. कोरोना के नए केस ने पुराने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए. आलम ये है कि तकरीबन हर रोज एक लाख से ज्यादा नए मरीज सामने आ रहे हैं. देश के चार राज्यों में एक दिन में सबसे ज्यादा नए केस आए. इनमें महाराष्ट्र (Maharashtra), दिल्ली (Delhi), यूपी (Uttar Pradesh) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) शामिल हैं. दिल्ली और मुंबई के हालात इतने बिगड़ चुके हैं कि अस्पतालों में बेड्स (Beds Shortage in Hospitals) की कमी सामने आई है. 

ये भी पढ़ें- Corona Update: दिल्ली में कोरोना का कहर, 17 बड़े अस्पतालों में बेड्स की हुई कमी

इस बीच महाराष्ट्र सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए बोर्ड परीक्षाओं को टालने का फैसला लिया है. शिक्षा मंत्री वर्षा गायकवाड़ ने कहा कि छात्रों का स्वास्थ्य हमारे लिए अहम है. उन्होंने कहा कि 12वीं के एग्जाम मई अंत तक और 10वीं की परीक्षाएं जून में होंगी. प्रदेश में इस खतरनाक वायरस से हालात बहुत खराब हो चुके हैं. राज्य में पिछले 24 घंटे में 63 हजार 294 नए कोरोना मरीज मिले हैं. रविवार को दुनिया में कहीं भी इतने केस नहीं दर्ज हुए. अमेरिका, फ्रांस और ब्राजील जैसे देश भी अब महाराष्ट्र से पीछे हो गए हैं. कोरोना की यह रफ्तार तब है जब राज्य में शनिवार-रविवार दो दिन का वीकेंड लॉकडाउन था. 

अस्पतालों में बेड्स की कमी

महाराष्ट्र में कई बड़े अस्पतालों में बेड्स की कमी सामने आई है. नागपुर मेडिकल कॉलेज में मरीजों की हालत काफी खराब स्थिति में है. बेड न मिलने की वजह से मेडिकल कॉलेज के ट्रामा केयर सेंटर के बरामदे में जमीन पर लिटाकर ऑक्सीजन दी जा रही है. अस्पताल में एक बेड पर दो-दो कोरोना मरीजों का उपचार किया जा रहा है. बीते 10 दिनों से अस्पताल में क्षमता से अधिक मरीजों का इलाज शुरू है. मेडिकल कॉलेज के बाहर भी फुटपाथ पर मरीज लेटे हुए हैं. नागपुर के अस्पतालों में वेंटिलेटर की भी भारी किल्लत सामने आ रही है.

लॉकडाउन पर होगा फैसला

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज लॉकडाउन को लेकर बड़ा फैसला ले सकते हैं. हालांकि इससे पहले स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने रविवार को कहा था कि प्रदेश में लॉकडाउन लगाने के संदर्भ में उचित फैसला 14 अप्रैल के बाद लिया जाएगा. उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई टास्क फोर्स की डिजिटल बैठक में लॉकडाउन लगाने समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई. उन्होंने कहा कि आज की बैठक में लॉकडाउन की अवधि और इससे होने वाली आर्थिक गिरावट से कैसे निपटना है, इस पर चर्चा हुई. टास्क फोर्स का यह मानना है कि राज्य में कोरोना वायरस के हालात ऐसे हैं कि लॉकडाउन की जरूरत है.

ये भी पढ़ें- CBSE बोर्ड परीक्षा पर गर्माई सियासत, प्रियंका गांधी वाड्रा ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र

महाराष्ट्र में 24 घंटे के भीतर 63 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं. वहीं 349 लोगों की जान गयी है. महाराष्ट्र में एक दिन नए कोरोना मरीजों का यह अब तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. राज्य में अब तक कोरोना के 34 लाख 7 हजार 245 मरीज पाए गए है. ये आंकड़े किसी भी देश में एक दिन में आए केसों से ज्यादा हैं. इन परिस्थितियों को देखते हुए महाराष्ट्र सरकार ने 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं स्थगित कर दी हैं.

First Published : 12 Apr 2021, 03:41:49 PM

For all the Latest Education News, Board Exams News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.