News Nation Logo
Banner

वाराणसी सीरियल ब्लास्ट 2006: आतंकी वलीउल्लाह उर्फ टुंडा को सजा आज, 20 की गई थी जान

वाराणसी सीरियल ब्लास्ट 2006 में आतंकी वलीउल्लाह उर्फ टुंडा को दोषी पाया गया है. उसे आज गाजियाबाद की कोर्ट में सजा सुनाई जाएगी. साल 2006 में हुए सीरिलय ब्लास्ट में 18 लोगों की तुरंत मौत हो गई थी, दो की इलाज के दौरान मौत हुई थी. उस सीरियल ब्लास्ट में कुल मिला कर 20 लोग मारे गए थे. इस मामले...

News Nation Bureau | Edited By : Shravan Shukla | Updated on: 06 Jun 2022, 07:31:22 AM
Waliullah Khan allias Tunda

Waliullah Khan allias Tunda (Photo Credit: फाइल)

highlights

  • वाराणसी सीरियल ब्लास्ट 2006 में गई थी 20 लोगों की जान
  • वलीउल्लाह उर्फ टुंडा को पाया है कोर्ट ने दोषी
  • आतंकी हमलों के 16 साल बाद इंसाफ आज

गाजियाबाद:  

वाराणसी सीरियल ब्लास्ट 2006 में आतंकी वलीउल्लाह उर्फ टुंडा को दोषी पाया गया है. उसे आज गाजियाबाद की कोर्ट में सजा सुनाई जाएगी. साल 2006 में हुए सीरिलय ब्लास्ट में 18 लोगों की तुरंत मौत हो गई थी, दो की इलाज के दौरान मौत हुई थी. उस सीरियल ब्लास्ट में कुल मिला कर 20 लोग मारे गए थे. इस मामले की सुनवाई गाजियाबाद जिला एवं सत्र अदालत में चल रही थी, जिसने आतंकी वलीउल्लाह उर्फ टुंडा को दोषी पाया है. सोमवार को टुंडा को सजा सुनाई जाएगी. टुंडा इस समय गाजियाबाद की हाई-प्रोफाइल डासना जेल में बंद है. 

हमलों के 16 साल बाद सुनाई जाएगी सजा

गाजियाबाद के जिला एवं सत्र न्यायालय में 23 मई को वाराणसी बम कांड की सुनवाई पूरी हो गई थी. कोर्ट ने सजा पर फैसला सुनाने के लिए चार जून की तारीख तय की थी. हालांकि ये सजा अब आज सुनाई जाने वाली है. जिला एवं सत्र न्यायाधीश जितेंद्र कुमार सिन्हा की अदालत में वाराणसी बम कांड की सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान बम कांड के आरोपी वलीउल्लाह को कड़ी सुरक्षा में लाया गया था. यूपी पुलिस ने 5 अप्रैल 2006 को प्रयागराज जिले के फूलपुर गांव निवासी वलीउल्लाह को गिरफ्तार किया था.

ये भी पढ़ें: नॉर्थ कोरिया की मिसाइलों के जवाब में US-South Korea ने दागी 8 मिसाइलें

वाराणसी के संकटमोचन मंदिर और कैंट रेलवे स्टेशन पर हुए थे धमाके

बता दें कि सात मार्च, 2006 को वाराणसी में संकटमोचन मंदिर और कैंट रेलवे स्टेशन पर बम धमाके हुए थे. दोनों जगहों पर धमाकों के अलावा दशाश्वमेध घाट पर कुकर बम मिला था. इन बम धमाकों में 20 लोगों की जान चली गई थी, जबकि दर्जनों लोग घायल हो गए थे. इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर इस मामले की सुनवाई गाजियाबाद में हो रही थी. 

First Published : 06 Jun 2022, 07:22:25 AM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.