News Nation Logo

कहीं आपका फोन नंबर-पता-ई-मेल तो नहीं हो गया हैक, करोड़ों भारतीयों की निजी जानकारी लीक

ऑनलाइन इंटेलीजेंस कंपनी साइबल ने बताया कि साइबर अपराधियों ने 2.9 करोड़ भारतीयों के व्यक्तिगत डाटा मुफ्त में डार्क वेब पर डाल दिये हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 23 May 2020, 10:36:25 AM
Dark Web

नौकरी की तलाश कर रहे 2.91 करोड़ भारतीय लोगों के व्यक्तिगत विवरण लीक. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

ऑनलाइन इंटेलीजेंस कंपनी साइबल ने बताया कि साइबर अपराधियों ने 2.9 करोड़ भारतीयों के व्यक्तिगत डाटा मुफ्त में डार्क वेब पर डाल दिये हैं. कंपनी ने शुक्रवार को एक ब्लॉग में कहा, 'नौकरी की तलाश कर रहे 2.91 करोड़ भारतीय लोगों के व्यक्तिगत विवरण मुफ्त में लीक हो गये हैं. आमतौर पर इस तरह की घटना हमारी नजरों में आती रहती है, लेकिन इसने विशेष ध्यान खींचा क्योंकि इसमें बहुत सारा व्यक्तिगत विवरण भी शामिल हैं. इन विवरणों में शिक्षा, पता, ईमल, फोन, योग्यता, कार्य अनुभव आदि भी शामिल हैं.'

यह भी पढ़ेंः 1,00,000 मौतों की ओर बढ़ रहा अमेरिका, डोनाल्ड ट्रम्प ने धर्मस्थलों को खोलने की वकालत की

लीक हो चुकी है 2.2 करोड़ से ज़्यादा जानकारी
इस महीने के शुरुआत में भारत के सबसे बड़े ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म अनएकेडमी के हैक होने की खबर मिली थी. उस समय भी इसकी जानकारी साइबल ने दी थी, जिसके मुताबिक हैकर्स ने इसके सर्वर को हैक करके 22 मिलियन (लगभग 2.2 करोड़) से ज़्यादा स्टूडेंट्स की जानकारी चुराया था. बताया गया कि इस डिटेल को डार्क वेब पर ऑनलाइन बेचा जा रहा है. इनमें विप्रो, इन्फोसिस, कॉग्निजेंट, गूगल और फेसबुक के कर्मचारियों की डिटेल भी थी. सिक्योरिटी फर्म की रिपोर्ट से मिली जानकारी के मुताबिक अनएकेडमी के 21,909,707 डाटा लीक हुए, जिनकी कीमत 2,000 अमेरिकी डॉलर है.

यह भी पढ़ेंः चीन ने अमेरिका को फिर दिखाई आंखें, पाकिस्तान के खिलाफ कुछ सुनने को तैयार नहीं

छात्रों की जानकारी 2 हजार अमेरिकी डॉलर में
रिपोर्ट के मुताबिक अनएकेडमी की वेबसाइट से जो डाटा लीक हुआ उसमें स्टूडेंट्स का यूज़रनेम, पासवर्ड, लास्ट लॉगइन डेट, ई-मेल आईडी, पूरा नाम, अकाउंट स्टेटस और अकाउंट प्रोफाइल जैसी कई ज़रूरी जानकारियां शामिल थीं. बता दें कि अनएकेडमी की मार्केट वैल्यू 500 मिलियन डॉलर (करीब 3,798 करोड़ रुपये) है.साइबल ने हाल ही में फेसबुक की हैकिंग की भी जानकारी का खुलासा किया था. साइबल ने एक वक्तव्य में कहा है कि साइबर अपराधी इस तरह की व्यक्तिगत जानकारी की ताक में रहती हैं ताकि उनके नाम पर वह पहचान चुराने, घोटाला करने या फिर जासूसी करने जैसे काम कर सकें.

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

First Published : 23 May 2020, 09:32:08 AM