News Nation Logo

झगड़े में मामा ने किया भांजी का कत्ल, मां-बाप की सहमति से दफना दिया शव, ऐसे खुला राज

मध्य प्रदेश के भिंड जिले में बीते रोज भारौली के बीहड़ से निकल कर आई 10 साल की मासूम की हत्या की भनक ने आख़िरकार यथार्थ रूप ले लिया है.

Written By : सुशील शर्मा | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 09 Jun 2021, 03:52:18 PM
dead body

झगड़े में मामा ने किया भांजी का कत्ल, मां-बाप की सहमति से दफना दिया शव (Photo Credit: फाइल फोटो)

भिंड:

मध्य प्रदेश के भिंड जिले में बीते रोज भारौली के बीहड़ से निकल कर आई 10 साल की मासूम की हत्या की भनक ने आख़िरकार यथार्थ रूप ले लिया है. भारौली क्षेत्र में नाना की 13वीं में शामिल होने आई मासूम की दो मामाओं के जमीनी विवाद में गोली लगने से मौत हो गई थी, लेकिन इस वारदात को समाज के ठेकेदारों ने मिलकर दबा दिया था. लेकिन मीडिया को पता चलते ही मामले ने तूल पकड़ा और दबाव बढ़ते ही पुलिस हरकत में आई. सबूतों और जानकारी के आधार पर बीहड़ में बने एक खेत से मासूम का शव बरामद कर लिया है. कार्रवाई के दौरान डीएसपी समेत भारी पुलिस बल और प्रशासनिक अमला मौक़े पर मौजूद रहा. शव मिलने के बाद अब पुलिस मामले में एफ़आईआर की कार्रवाई में जुट गई है और आरोपियों की तलाश प्रारंभ कर दी है.

यह भी पढ़ें : बॉयफ्रेंड के साथ आई युवती से हैवानियत, मारपीट के बाद 6 दरिंदों ने बारी बारी से किया रेप

दरअसल, भिंड की भारौली पुलिस ने बुधवार को सीताराम का पुरा गांव पहुंच कर बच्ची का शव बरामद कर लिया है. बीते दिन मामाओं द्वारा भांजी की हत्या और फिर पुलिस से छिपाकर उसके शव को दफ़नाकर वारदात को दबाने का प्रयास किया गया था. लेकिन मीडिया की सक्रिय भूमिका के चलते पुलिस को मामले की जानकारी लगी और तहक़ीक़ात शुरू की गई. शुरुआती तौर पर पुलिस इस घटना के सम्बंध में जानकारी जुटाने गांव पहुंची थी, लेकिन किसी ने कोई जानकारी नहीं दी. ऐसे में इस वारदात का कोई आधार नहीं मिला.

मामला मीडिया में उछलते ही पुलिस ने अलग स्तर पर जांच शुरू की. पुलिस को जानकारी मिली कि आरोपी की बहन की बेटी को गोली लगी थी. ऐसे में मुरैना ज़िले में पुलिस ने बच्ची के माता पिता से सम्पर्क किया. शुरू में उन्होंने कुछ नहीं बताया, लेकिन जब पुलिस ने उन्हें समझाईश दी, तब जाकर बच्ची के पिता ने घटना के बारे में बताया कि बच्ची मां के साथ मामा के घर आई थी. यहां उनके झगड़े में चली गोली लगने से उसकी मौत हो गई थी और समाज के दबाब के चलते उन्होंने बच्चे को दफ़नाने पर सहमति दी थी. मौत के बाद उसे घर से करीब आधा किलोमीटर दूर बीहड़ों में बने एक खेत में ढाई फीट गहरी कब्र खोद कर दफ़नाया गया था. घटना की पुष्टि होने पर भारौली पुलिस बच्ची के पिता की लेकर गांव सीताराम का पुरा पहुंची. जहां पिता द्वारा बताए गए स्थान को चिन्हित कर खुदाई कराई गई, जिसमें बच्ची का शव मिला जो बुरी तरह से सड़ चुका था.

यह भी पढ़ें : 4 महीने में 250 करोड़ की ठगी, सामने आया चीन कनेक्शन 

यह है पूरा मामला

भिंड जिले के भरौली थाना क्षेत्र में सीताराम के पुरा गांव में बीती 7 मई को रामलखन कुशवाह की मौत हो गई थी. जिनकी तेरहवीं 20 मई को थी. अपने पिता की तेरहवीं में शामिल होने के लिए मुरैना जिले के डिरोली गांव से अट्टो देवी अपनी नाबालिग बेटी के साथ आई हुई थी. तेरवीं के अगले दिन 21 मई को मृतक के बेटे मोनू कुशवाह और बुद्धू सिंह कुशवाह में बंटवारे को लेकर आपसी विवाद हो गया. बात मरने मारने पर आ गई. इसी बीच मृतक रामलखन की बंदूक छोटा बेटा उठा लाया और फायर कर दिया. झगड़े में चली गोली अट्टो देवी की 11 साल की बेटी को लगी और मौके पर ही उसकी मौत हो गई. मौत के बाद परिवार ने अपनी बहन अट्टो को मनाया और पुलिस में रिपोर्ट ना करते हुए बेटी को दफन कर दिया.

इस पूरी घटना के बारे में गांव को जानकारी होने के बाद भी चुप्पी साध ली गयी और मामले को दबा दिया गया. हत्या के बाद राज खुलने का डर और उपयोग हुए हथियार की बरामदगी से बचने के लिए भी आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने बंदूक पुलिस थाने फौती के तौर पर जमा करवा दी गई. 17 दिन बाद आरोपियों ने अपने घर सीताराम के पुरा में अपने समाज की पंचायत जोड़ी, जिसमें आसपास के गांव से समाज के लोगों को बुलाया गया. करीब 100 से ज़्यादा लोग इकट्ठे हुए.

यह भी पढ़ें : दिल्ली से एक रैपर एमसी कोड उर्फ आदित्य तिवारी संदिग्ध हालात में गायब 

पंचों ने बच्ची की जान की अजीबोगरीब सजा सुनाई

पंचों ने हत्या की घटना इस घटना की निंदा की और गोली चलाने वाले दोषी भाइयों को आरोपी मानते हुए हत्या के मामले को पाप माना और फ़रमान सुनाया कि आरोपी बुद्ध सिंह और मोनू सिंह द्वारा की गई भांजी की हत्या पाप की श्रेणी में है. इस पाप को मिटाने के लिए सजा के तौर पर उन्हें 3 पखवाड़े यानी घर के बाहर रहना होगा. इसके बाद पैदल यात्रा कर गंगा जी नहाने जाना होगा, तब गांव और समाज में उनकी वापसी होगी. वापस आने पर कन्या भोज के रूप में एक भंडारा भी उन्हें कराना होगा. फ़ैसला सुनाने के बाद पंचों ने कानून की कोई परवाह नहीं की और ना ही कानून संगत फैसला दिया और ना ही पुलिस को इस बारे में कोई सूचना दी गई.

मामले का खुलासा होने के बाद अब भारौली थाना पुलिस द्वारा मामला दर्ज किया जा रहा है. वही डीएसपी मोतीलाल कुशवाहा का कहना है कि बच्ची के शव को निकाल लिया गया है और पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है, जिसकी रिपोर्ट के आधार पर आगे अब विवेचना की जाएगी. वहीं इस पूरे मामले को दबाने वाले समाज की पंचायत में शामिल हुए ठेकेदारों पर भी कार्रवाई के सम्बंध में उन्होंने कहा कि विवेचना में लोगों की पहचान की जाएगी, जिसके आधार पर कार्रवाई होगी. गिरफ़्तारी के सम्बंध में उनका कहना है कि अभी शव मिला है. मामला पंजीकृत होने पर आरोपियों की पहचान कर उन्हें जल्द से जल्द गिरफ़्तार किया जाएगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 09 Jun 2021, 03:52:18 PM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Bhind Bhind News