News Nation Logo
Banner

जामुन तोड़ने पर दलित बच्चे पर अत्याचार, पेड़ से बांधकर बेरहमी से पिटाई

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में एक बाग के मालिक ने 10 और 11 साल के दो दलित लड़कों को कथित तौर पर एक पेड़ से बांध दिया और घंटों तक बेरहमी से पीटा. क्योंकि उन्होंने उसके बागान से जामुन तोड़े थे.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 24 Jun 2021, 02:00:50 PM
Lakhimpur Pitai

जामुन तोड़ने पर दलित बच्चे पर अत्याचार, पेड़ से बांधकर बेरहमी से पिटाई (Photo Credit: IANS)

लखीमपुर:

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में एक बाग के मालिक ने 10 और 11 साल के दो दलित लड़कों को कथित तौर पर एक पेड़ से बांध दिया और घंटों तक बेरहमी से पीटा. क्योंकि उन्होंने उसके बागान से जामुन तोड़े थे. घटना गेहुआ गांव की है. जब उनकी माताएं उन्हें ढूंढ़ने गईं तो उन्होंने पाया कि वे अभी भी पेड़ से बंधे हैं और बेहोश हैं. उन्होंने मोहम्मदी पुलिस स्टेशन के कर्मियों को सूचित किया लेकिन बुधवार को सोशल मीडिया पर बच्चों की तस्वीरें साझा किए जाने के बाद पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की. मुख्य आरोपी कैलाश वर्मा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है.

यह भी पढ़ें : बैंक में मरम्मत का काम करते वक्त पड़ी थी पैसों पर नजर, फिल्मी स्टाइल में उड़ाए 55 लाख रुपये

पुलिस ने बताया कि घटना के वक्त वह नशे में था. अपनी शिकायत में, दोनों लड़कों के परिवारों ने आरोप लगाया कि लड़के एक निजी स्कूल परिसर के एक पेड़ से कुछ जामुन तोड़कर खा रहे थे, जब स्कूल के मालिक 25 वर्षीय कैलाश ने उन्हें पकड़ लिया. उसने लड़कों को पेड़ से बांध दिया और उन्हें जमकर पीटा. नाबालिगों के रोने और बार बार दया की भीख मांगने पर भी उसने बच्चों को नहीं छोड़ा. पवन की मां सरिता देवी ने कहा कि स्कूल में पानी पीने गए कुछ बच्चों ने कैलाश को लड़कों की पिटाई करते देखा और उन्हें इसकी सूचना दी. वह और धीरज की मां मौके पर पहुंची और देखा कैलाश शराब पीए हुए था और दोनों लड़के बेहोश पड़े थे.

यह भी पढ़ें : फादर्स डे के दिन 'मौत का तोहफा', बेटों ने पीट पीटकर मार डाला पिता को 

सरिता देवी ने कहा, 'कैलाश के साथ हमारी तीखी बहस हुई और पुलिस को सूचित किया गया. कैलाश का परिवार अब हमें शिकायत वापस लेने के लिए मनाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन हमने मना कर दिया.' मोहम्मदी पुलिस स्टेशन के एसएचओ बृजेश त्रिपाठी ने कहा, 'हमने आईपीसी की धारा 342 (गलत कारावास), 504 (जानबूझकर अपमान), 323 (स्वेच्छा से चोट पहुंचाना) और एससी, एसटी अधिनियम के प्रावधानों के तहत प्राथमिकी दर्ज की है. आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. लड़कों को मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है. रिपोर्ट का इंतजार है.'

First Published : 24 Jun 2021, 02:00:50 PM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.