News Nation Logo

रेमडेसिविर की कालाबाजारी का पर्दाफाश, पटना में निजी अस्पताल के डायरेक्टर सहित दो गिरफ्तार

जिस तरह कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, उसी तरह कोरोना को मात देने वाली दवाइयों की कालाबाजारी भी बढ़ गई है. ताजा मामला बिहार की राजधानी पटना से सामने आया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 07 May 2021, 12:22:18 PM
Patna Hospital Raid

रेमडेसिविर की कालाबाजारी का खेल, अस्पताल के डायरेक्टर समेत 2 गिरफ्तार (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • रेमडेसिविर की कालाबाजारी का पर्दाफाश
  • पटना में निजी अस्पताल पर EOU का छापा
  • अस्पताल के डायरेक्टर सहित दो गिरफ्तार

पटना:

जिस तरह कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हुई है, उसी तरह इस घातक वायरस को मात देने वाली दवाइयों की कालाबाजारी भी बढ़ गई है. ताजा मामला बिहार की राजधानी पटना से सामने आया है, जहां कोरोना मरीजों को दी जाने वाली दवा रेमडेसिविर की कालाबाजारी का पर्दाफाश हुआ है. आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की टीम ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पटना के एसपी वर्मा रोड स्थित एक निजी अस्पताल में छापेमारी की. इस दौरान टीम ने अस्पताल के निदेशक और उसके साले को रेमडेसिविर दवा की कालाबाजी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन उल्लंघन पर रोका तो ड्यूटी पर तैनात महिला कांस्टेबल से मारपीट, हेलमेट से किए कई वार

यहां भेष बदलकर पहुंची ईओयू टीम

दरअसल, ईओयू को गुप्त सूचना मिली थी कि एसपी वर्मा रोड स्थित रेनबो इमरजेंसी अस्पताल से रेमडेसिविर दवा की कालाबाजारी हो रही है. सूचना के आधार पर टीम भेष बदलकर अस्पताल पहुंची. अस्पताल में मौजूद कर्मियों से दवा की डोज की जानकारी ली. अस्पातल के निदेशक डॉक्टर अशफाक अहमद ने उन्हें आश्वासन दिया कि वह उनके मरीज को यह दवा उपलब्ध करा देगा लेकिन इसके लिए अधिक कीमत चुकानी होगी.

देखें : न्यूज नेशन LIVE TV

इसके बाद ईओयू ने कोतवाली थाना और गांधी मैदान थाना के सहयोग से छापेमारी शुरू की. बताया जाता है कि अस्पताल परिसर में ही मौजूद एक दवा दुकान से कालाबाजारी की जाती थी. मिली जानकारी के अनुसार दवा दुकान के नाम पर रेमडेसिविर को अस्पताल से काफी अधिक कीमत पर बेचा जा रहा था.

यह भी पढ़ें : कोरोना संकट में खिलवाड़! लोगों की फर्जी कोविड रिपोर्ट बनाना था गिरोह, ऐसे पकड़े में आए एक डॉक्टर समेत 5 आरोपी

एक डोज के लाख रुपये वसूल रहा था अस्पताल

टीम को छापेमारी के दौरान अस्पताल में भर्ती मरीजों के परिजनों से पूछताछ में पता चला कि एक डोज के लिए 1 लाख रुपये तक वसूला जाता था. गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिसिया पूछताछ में कालाबाजारी की बात स्वीकारी है. पुलिस ने मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है. रेमेडीसीवीर के इंजेक्शन अस्पताल से बरामद भी हुए हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 07 May 2021, 12:22:18 PM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.