News Nation Logo
NCB दफ्तर में अनन्या पांडे से पूछताछ जारी, ड्रग्स चैट में सामने आया था नाम अनंतनाग में गैर कश्मीरी की हत्या, शरीर पर कई जगह चोट के निशान गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव को लेकर प्रदेश कांग्रेस के नेता राहुल गांधी से मिले ड्रग पैडलर को सामने बैठाकर पूछताछ कर सकती है NCB ड्रग्स चैट मामले में अनन्या पांडे से होनी है पूछताछ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज बेंगलुरु में वैमानिकी विकास प्रतिष्ठान का दौरा किया शिवराज सिंह चौहान ने शोपियां मुठभेड़ में शहीद जवान कर्णवीर सिंह को सतना में श्रद्धांजलि दी मुंबई के लालबाग इलाके में 60 मंजिला इमारत में लगी भीषण आग आग की लपटों से घिरी बहुमंजिला इमारत में 100 से ज्यादा लोगों के फंसे होने की आशंका उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव: कल शाम छह बजे सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस सीईसी की बैठक राष्ट्रपति कोविन्द अपनी तीन दिवसीय बिहार यात्रा के अंतिम दिन गुरुद्वारा पटना साहिब, महावीर मंदिर गए छत्तीसगढ़ः राजनांदगांव में आईटीबीपी के 21 जवानों को फूड प्वाइजनिंग, अस्पताल में भर्ती कराया गया

लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance) का आवेदन क्यों हो जाता है रिजेक्ट, जानिए वजह

लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance): टर्म इंश्योरेंस लेने के बाद आपको अपने परिवार की चिंता कम तो होती ही है. साथ ही नॉमिनी को भी पूरी आर्थिक सुरक्षा मिलती है.

Business Desk | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 29 Sep 2021, 01:54:56 PM
Life Insurance: टर्म इंश्योरेंस (Term Insurance)

Life Insurance: टर्म इंश्योरेंस (Term Insurance) (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • इंश्योरेंस कंपनियां आवेदक की हेल्थ की स्थिति को चेक करने के बाद ही पॉलिसी को जारी करती हैं 
  • मेडिकल टेस्ट स्वास्थ्य को लेकर निगेटिव रिपोर्ट आने पर आवेदन को रिजेक्ट किया जा सकता है

नई दिल्ली:

Life Insurance: टर्म इंश्योरेंस (Term Insurance) या टर्म प्लान (Term Plan) के तहत इंश्योर्ड व्यक्ति की मौत होने पर नॉमिनी को एकमुश्त रकम मिलती है. इसके अलावा इस इंश्योरेंस से कोई दूसरा बड़ा फायदा नहीं मिलता है. दरअसल, टर्म इंश्योरेंस लेने के बाद आपको अपने परिवार की चिंता कम तो होती ही है. साथ ही नॉमिनी को भी पूरी आर्थिक सुरक्षा मिलती है. पॉलिसीधारक की असामयिक मृत्यु के बाद बीमा कंपनी नॉमिनी को इंश्योरेंस की पूरी रकम का भुगतान कर देती है. नॉमिनी इस पैसे को सही निवेश करके भविष्य में सुकून की जिंदगी गुजार सकता है. हालांकि इंश्योरेंस की खरीदारी जितनी आसान लगती है उतनी है नहीं. दरअसल, कई मामलों में इंश्योरेंस खरीदते समय आवेदन को रिजेक्ट कर दिया जाता है. ऐसे में आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी है कि आपका आवेदन रिजेक्ट नहीं हो उसके लिए किन बातों पर ध्यान देने की जरूरत है.

यह भी पढ़ें: Balanced Advantage Fund की हर तरफ हो रही चर्चा, निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्यान

मेडिकल चेकअप में फिट नहीं होने पर रिजेक्ट हो सकता है आवेदन
इंश्योरेंस कंपनियां आवेदक की हेल्थ की स्थिति को चेक करने के बाद ही पॉलिसी को जारी करती हैं. कई मामलों में पॉलिसी खरीदने वाले का मेडिकल टेस्ट भी कराया जाता है. मेडिकल टेस्ट में अगर आपके स्वास्थ्य को लेकर निगेटिव रिपोर्ट आती है तो बीमा कंपनियां आपके आवेदन को रिजेक्ट कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें: होम लोन (Home Loan) पर मिल रहा है तगड़ा डिस्काउंट, जानिए कब तक है मौका

इंश्योरेंस कंपनियों के द्वारा आवेदक से इनकम सर्टिफिकेट मांगा जाता है. दरअसल कंपनियां इसके जरिए यह जानने की कोशिश करती हैं कि भविष्य में ग्राहक पॉलिसी को जारी रखने में सक्षम है या नहीं. वहीं अगर आवेदक 3 करोड़ रुपये के इंश्योरेंस कवर के लिए अप्लाई करता है तो अगर उसके पास इसके लिए सपोर्टिंग इनकम नहीं है तो उसके आवेदन को खारिज कर दिया जाता है. इसके अलावा हाई रिस्क वाले यानी जिस पेशे में जान का खतरा रहता है ऐसे प्रोफेशनल को इंश्योरेंस पॉलिसी जारी करने में बड़ी मुश्किल होती है. कंपनियां आवेदक से पिछले आवेदनों के बारे में भी जानकारी हासिल करती है अगर किसी कंपनी के द्वारा आपके आवेदन को रिजेक्ट किया गया है तो संभावना रहती है कि नई इंश्योरेंस कंपनी आपके आवेदन को बेहद सावधानीपूर्वक जांच करती है. साथ ही संभव है कि कुछ संशय होने पर आवेदन भी रिजेक्ट कर दिया जाए.

First Published : 29 Sep 2021, 01:52:34 PM

For all the Latest Business News, Personal Finance News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.