News Nation Logo
Banner

पेटीएम (Paytm) ने छोटे दुकानदारों के लिए किया बड़ा फैसला, बगैर गारंटी बांटेगी कर्ज

पेटीएम (Paytm) ने बयान में कहा कि हम अपने 1.7 करोड़ दुकानदारों के आंकड़ों के आधार पर कारोबार क्षेत्र को 1,000 करोड़ रुपये का ऋण प्रदान करेंगे. इस ऋण के जरिये दुकान मालिक अपने कारोबार का डिजिटलीकरण कर सकेंगे तथा परिचालन में विविधता ला सकेंगे.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 10 Nov 2020, 11:07:24 AM
Paytm

पेटीएम (Paytm) (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

डिजिटल वित्तीय सेवा कंपनी पेटीएम (Paytm) ने अगले साल मार्च तक दुकानदारों को 1,000 करोड़ रुपये के ऋण वितरण का लक्ष्य रखा है. कंपनी ने कहा है कि वह अपने बिजनेस ऐप के प्रयोगकर्ताओं को ‘दुकानदार ऋण कार्यक्रम’ के तहत बिना गारंटी वाला कर्ज उपलब्ध कराना जारी रखेगी. पेटीएम ने बयान में कहा कि हम अपने 1.7 करोड़ दुकानदारों के आंकड़ों के आधार पर कारोबार क्षेत्र को 1,000 करोड़ रुपये का ऋण प्रदान करेंगे. इस ऋण के जरिये दुकान मालिक अपने कारोबार का डिजिटलीकरण कर सकेंगे तथा परिचालन में विविधता ला सकेंगे.

यह भी पढ़ें: नई ऊंचाई पर खुला शेयर बाजार, सेंसेक्स में 200 प्वाइंट से ज्यादा का उछाल

1,000 करोड़ रुपये का कर्ज मार्च तक वितरित करने का लक्ष्य

इससे उनकी दक्षता में सुधार होगा और उन्हें डिजिटल इंडिया मिशन में शामिल होने में मदद मिलेगी. कंपनी ने कहा कि उसका लक्ष्य 1,000 करोड़ रुपये का कर्ज मार्च तक वितरित करने का है. पेटीएम दुकानदारों के रोजाना के लेनदेन के आधार पर उनकी ऋण पात्रता तय करती है और उसके बाद गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) तथा बैंकों के साथ भागीदारी में बिना गारंटी वाला ऋण उपलब्ध कराती है.

यह भी पढ़ें: Bank Of Maharashtra के ग्राहकों के लिए खुशखबरी, सस्ते हो गए होम, ऑटो और एजुकेशन लोन

बयान में कहा गया है कि वह सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उपक्रमों (एमएसएमई) की वृद्धि के लिए निचली ब्याज दरों में पांच लाख रुपये तक के गारंटी-मुक्त ऋण का विस्तार कर रही है। इस ऋण की वसूली दुकानदार के पेटीएम के साथ रोजाना के निपटान के आधार पर की जाती है और इसके समय से पहले भुगतान पर कोई शुल्क नहीं लिया जाता है.

First Published : 10 Nov 2020, 10:37:54 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.