News Nation Logo
Banner

FDI को मंज़ूरी मिलने के संकेत से चीनी कंपनियों में उत्साह, फिर भी ड्रैगन दिखा रहा आंखें

India-China Trade Relations: इकोनॉमिक टाइम्स की खबर का हवाला देते हुए ग्लोबल टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि भारत सरकार आगामी कुछ दिनों में पड़ोसी देशों से 26 फीसदी तक के FDI को ऑटोमेटिक रूट के जरिए मंज़ूरी देने पर विचार कर रही है.

Written By : बिजनेस डेस्क | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 21 Nov 2020, 11:14:28 AM
India-China Trade Relations

India-China Trade Relations (Photo Credit: IANS )

नई दिल्ली :

India-China Trade Relations: व्यापार के मोर्चे पर चीन और भारत के संबंध सकारात्मक दिशा की ओर आगे बढ़ते हुए दिखाई पड़ रहे हैं. ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीन के एक्सपर्ट और व्यापार प्रतिनिधियों ने भारत सरकार के द्वारा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के नियमों में ढील दिए जाने के सकारात्मक संकेतों का स्वागत किया है. दरअसल, चीन की ओर से यह खबरें इकोनॉमिक टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के बाद आई है. इकोनॉमिक टाइम्स की खबर का हवाला देते हुए ग्लोबल टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि भारत सरकार आगामी कुछ दिनों में पड़ोसी देशों से 26 फीसदी तक के FDI को ऑटोमेटिक रूट के जरिए मंज़ूरी देने पर विचार कर रही है.

यह भी पढ़ें: आम आदमी को बड़ा झटका, लगातार दूसरे दिन महंगा हो गया पेट्रोल और डीजल

पड़ोसी देशों से 26 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति देने की योजना पर विचार कर रहा है भारत: इकोनॉमिक टाइम्स
बता दें कि मंगलवार को इकोनॉमिक टाइम्स में छपी रिपोर्ट में सरकारी अधिकारियों के हवाले से छपी खबर में यह टिप्पणी की गई थी कि भारत उन देशों से 26 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति देने की योजना पर विचार कर रहा है, जिनके साथ भारत की सीमा छूती है और उसमें चीन भी शामिल है. हालांकि जानकारों का कहना है कि मौजूदा स्थितियों को देखते हुए अभी भी इसको लेकर अनिश्चितता है और भविष्य में इसके अवलोकन की आवश्यकता है. ग्लोबल टाइम्स ने इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि अप्रैल में भारत की FDI पॉलिसी में संशोधन के बाद रुके हुए 100 से अधिक प्रस्तावों पर फैसला होने की उम्मीद है, जिसके लिए सीमावर्ती देशों से FDI के लिए भारत सरकार की मंजूरी जरूरी है.

यह भी पढ़ें: रबी दलहनी फसलों की बुआई ने जोर पकड़ी, रकबा 28 फीसदी बढ़ा

सीमा पर एकतरफा उकसावे और चीनी व्यवसायों के प्रति नकारात्मक रुख की वजह से सावधान रहने की जरूरत: चीनी जानकार
रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस महामारी के बीच अप्रैल में शुरू किए गए भारत के नए विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने विदेशी निवेशकों के प्रति रूखा रवैया अपनाया था, जिसकी वजह से चीन के व्यवसायों में निवेशकों का भरोसा कम हुआ. चीन के जानकारों का कहना है कि नई पहल चीन-भारत संबंधों में सुधार का संकेत हो सकती है, लेकिन सीमा पर भारत के एकतरफा उकसावे और भारत में चीनी व्यवसायों के प्रति नकारात्मक रुख की वजह से सावधान रहने की जरूरत है. उनका कहना है कि अभी तक यह मामला सिर्फ भारत की मीडिया ने ही रिपोर्ट किया है और रिपोर्ट के अनुसार अभी भारतीय अधिकारी फिलहाल इस मामले पर विचार कर रहे हैं, जिसकी अभी तक आधिकारिक पुष्टि भी नहीं हुई है. 

यह भी पढ़ें: PNB, Sodexo समेत 6 इकाइयों पर लगा 5.78 करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना
 
सिंघुआ विश्वविद्यालय (Tsinghua University) के नेशनल स्ट्रैटेजी इंस्टीट्यूट (National Strategy Institute) के अनुसंधान विभाग के निदेशक कियान फेंग (Qian Feng) ने ग्लोबल टाइम्स से कहा कि भारत को यह कदम जरूर उठाना चाहिए, क्योंकि चीनी निवेश पर भारत का तर्क हीन रुख उसके द्वारा खुद के पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है और लंबे समय तक इस स्थिति को बरकरार नहीं रखा जा सकता है.

यह भी पढ़ें: लक्ष्मी विलास बैंक: RBI ने अंतिम विलय योजना को अगले हफ्ते के लिए टाला

चीन के विशेषज्ञों का कहना है कि भारत ने इस साल सीमा टकराव के बाद चीनी निवेश पर प्रतिबंध लगा दिया. उन्होंने कहा कि चीन की कंपनियों के खिलाफ अनुचित प्रतिशोधात्मक कार्रवाई से भारत को अपनी अर्थव्यवस्था को गति लाने के प्रयासों को झटका लग सकता है. इसके अलावा भारत का यह कदम उसके उपभोक्ताओं को भी भारी नुकसान पहुंचा रहा है.

First Published : 21 Nov 2020, 11:10:18 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो