News Nation Logo

Rabi Crop Sowing Report: रबी दलहनी फसलों की बुआई ने जोर पकड़ी, रकबा 28 फीसदी बढ़ा

IANS | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 21 Nov 2020, 09:38:42 AM
Wheat Crop

Wheat Crop (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली :  

Rabi Crop Sowing Report: दाल की महंगाई ने इस बार फिर दलहनी फसलों की खेती के प्रति किसानों की दिलचस्पी बढ़ा दी है. चालू रबी बुवाई सीजन में दलहनी फसलों की बुवाई काफी जोर पकड़ चुकी है. किसानों ने खासतौर से चना, मसूर, मटर, उड़द और खेसारी की खेती में पूरी ताकत झोंकी है. रबी दलहनी फसलों का रकबा पिछले साल के मुकाबले 28 फीसदी ज्यादा हो चुका है. केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, चालू रबी सीजन में अब तक 265.43 लाख हेक्टेयर में रबी फसलों की बुवाई हो चुकी है, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान रबी फसलों का रकबा 241.66 लाख हेक्टेयर था. इस प्रकार, देश में पिछली बार के मुकाबले रबी फसलों का रकबा 23.77 लाख हेक्टेयर यानी 9.84 प्रतिशत बढ़ चुका है.

यह भी पढ़ें: PNB, Sodexo समेत 6 इकाइयों पर लगा 5.78 करोड़ रुपये से अधिक का जुर्माना

चना की बुवाई का रकबा पिछले साल से 30.06 फीसदी बढ़ी

दलहनों की बुवाई 82.59 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है, जो कि पिछले साल की समान अवधि के रकबे के मुकाबले 27.91 फीसदी अधिक है. चना की बुवाई का रकबा पिछले साल से 30.06 फीसदी बढ़कर 57.44 लाख हेक्टेयर हो चुका है, जबकि मसूर का रकबा 29.88 फीसदी बढ़कर 9.76 लाख हेक्टेयर हो चुका है। वहीं, मटर का रकबा 26.99 फीसदी बढ़कर 6.78 लाख हेक्टेयर हो गया है. खेसारी का रकबा पिछले साल से 86.10 फीसदी बढ़कर 1.50 लाख हेक्टेयर हो गया है. उड़द की बुवाई 2.14 लाख हेक्टेयर में हुई है जोकि पिछले साल से 13.16 फीसदी अधिक है.

यह भी पढ़ें: पेट्रोलियम मंत्रालय की बड़ी योजना, कॉम्प्रेस्ड बायोगैस प्लांट में 2 लाख करोड़ का होगा निवेश

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि कृषि क्षेत्र में सरकार की विशेष रुचि और प्रयासों से किसान उत्साहित हैं, जिससे कृषि क्षेत्र लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है. उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के बावजूद, सरकार ने अपनी प्राथमिकता वाले कृषि क्षेत्र में निरंतर ध्यान दिया, जिससे पिछले रबी सीजन में फसलों की कटाई अच्छे-से हुई, फिर ग्रीष्मकालीन व खरीफ फसलों की भी र्किार्ड बुवाई हुई. किसानों ने पिछले साल के 52.08 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के मुकाबले 55.53 लाख हेक्टेयर क्षेत्र पर तिलहनों की बुवाई की है. तिलहन के कुल क्षेत्र में औसत 3.45 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है. इसमें, सरसों के क्षेत्र में 4.24 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में वृद्धि हुई है, जिसमें पिछले साल के 48.01 लाख हेक्टेयर की तुलना में 52.25 लाख हेक्टेयर क्षेत्र को कवर किया गया है.

यह भी पढ़ें: लक्ष्मी विलास बैंक: RBI ने अंतिम विलय योजना को अगले हफ्ते के लिए टाला

इस साल 97.27 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं की बुआई

मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले वर्ष के 96.77 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के मुकाबले 97.27 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में गेहूं बोया गया है, यानी इसके क्षेत्र कवरेज में 0.50 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है. गत वर्ष के 64.57 लाख हेक्टेयर क्षेत्र के मुकाबले दलहन 82.59 लाख हेक्टेयर में बोया गया है, यानी क्षेत्र कवरेज में 18.02 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है. मोटे अनाज का क्षेत्र पिछले साल के 21.26 लाख हेक्टेयर के मुकाबले इस बार 22.78 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में है, यानी क्षेत्र कवरेज में 1.53 लाख हेक्टेयर की वृद्धि हुई है. मंत्रालय ने बताया कि कोरोना महामारी से रबी फसलों की बुवाई प्रभावित नहीं हुई है.

First Published : 21 Nov 2020, 09:36:42 AM

For all the Latest Business News, Commodity News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.