News Nation Logo
Banner

पेट्रोलियम मंत्रालय की बड़ी योजना, कॉम्प्रेस्ड बायोगैस प्लांट में 2 लाख करोड़ का होगा निवेश

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री (Minister of Petroleum & Natural Gas) धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने एनर्जी कंपनियों जेबीएम ग्रुप, अडानी गैस, पेट्रोनेट एलएनजी आदि के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर करते हुए यह ऐलान किया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 21 Nov 2020, 07:46:55 AM
Dharmendra Pradhan

धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली :

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने बड़ी योजना पर काम शुरू किया है. देश में पांच हजार कॉम्प्रेस्ड बायोगैस (सीबीजी) प्लांट में दो लाख करोड़ रुपये का निवेश करने की तैयारी है. केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री (Minister of Petroleum & Natural Gas) धर्मेंद्र प्रधान (Dharmendra Pradhan) ने एनर्जी कंपनियों जेबीएम ग्रुप, अडानी गैस, पेट्रोनेट एलएनजी आदि के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर करते हुए यह ऐलान किया है.

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों बढ़ रहा है बांग्लादेश से चावल के चोकर के तेल का आयात

सरकार ने वैकल्पिक किफायती परिवहन के लिए रोडमैप बनाया: धर्मेंद्र प्रधान
जैव और फसल अवशेषों से तैयार होने वाले इस ईंधन के क्षेत्र में अपार संभावनाओं को देखते हुए मंत्रालय ने यह कदम बढ़ाया है. इससे किसानों को भी काफी फायदा होगा. इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने कहा कि आज, हम स्वच्छ, सस्ते और टिकाऊ ईंधन की निरंतर खोज में एक नया अध्याय लिख रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमने सतत वैकल्पिक किफायती परिवहन (एसएटीएटी) के लिए स्पष्ट रोडमैप बनाया है.

यह भी पढ़ें: शेयर मार्केट में दिन के कारोबार पर ब्रोकरेज नहीं लेगा Kotak Securities

उन्होंने कहा कि मुझे यह जानकर खुशी हुई कि भारतीय उद्योग से जुड़े लोगों ने सतत वैकल्पिक किफायती परिवहन में अत्यधिक रुचि दिखाई है. 600 सीबीजी संयंत्रों के लिए आशय पत्र पहले ही दिए जा चुके हैं और आज 900 प्लांट के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर होने के साथ, कुल 1500 सीबीजी संयंत्र पर काम चल रहा है.

यह भी पढ़ें: मुत्थूट फाइनेंस, मन्नापुरम फाइनेंस को बड़ा झटका, RBI ने लगाया जुर्माना

दरअसल, भारत सरकार की ओर से एक अक्टूबर 2018 को परिवहन क्षेत्र के लिए एक वैकल्पिक और स्वच्छ ईंधन के उत्पादन और सीबीजी की उपलब्धता को बढ़ाने के लिए एसएटीएटी की पहल शुरू की गई थी. यह योजना 2023-24 तक पांच हजार सीबीजी संयंत्रों की स्थापना का लक्ष्य है. एमओयू पर हस्ताक्षर होने से सरकार की स्वच्छ ऊर्जा पहल को एक बड़ी उपलब्धि मिलेगी.

First Published : 21 Nov 2020, 07:44:33 AM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो