News Nation Logo
Banner

दुनिया को घुमाने वाली कंपनी ने हजारों करोड़ों रुपए घुमाए, ED ने की छापेमारी

प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को कॉक्स एंड किंग्स के पांच ठिकानों पर छापेमारी की. कंपनी के प्रमोटर के घर और दफ्तर में ईडी की टीम पूछताछ कर रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 08 Jun 2020, 12:16:08 PM
Cox And Kings

ED ने कॉक्स एंड किंग्स के पांच स्थानों पर छापेमारी. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

मुंबई:  

लोगों को दुनिया भर में घुमाने वाले टूर ऑपरेटर कॉक्स एंड किंग्स (Cox and Kings) ने यस बैंक के साथ मिलकर भारी लोन लिया. वह भी तब जब खुद कंपनी की हालत पतली थी. यस बैंक (Yes Bank) घोटाले के सामने आने के बाद प्रवर्तन निदेशालय ने सोमवार को कॉक्स एंड किंग्स के पांच ठिकानों पर छापेमारी की. कंपनी के प्रमोटर के घर और दफ्तर में ईडी की टीम पूछताछ कर रही है. जानकारी के मुताबिक ईडी ने यह छापेमारी 20 हजार करोड़ रुपए के घोटाले में की है. कॉक्स एंड किंग्स पर अकेले यस बैंक का 2026 करोड़ का लोन बकाया है. गौरतलब है कि कॉक्स एंड किंग्स की पैरेंट कंपनी ने बीते साल खुद को दिवालिया घोषित कर अपने हजारों कर्मचारियों को बेरोजगार कर दिया था.

यह भी पढ़ेंः सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो दिनों तक चले ऑपरेशन में मारे गए 9 आतंकी

ऑडिट में हीला-हवाली
टूर ऑपरेटर कॉक्स एंड किंग्स के फोरेंसिक ऑडिट के लिए बैंकों को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है. सूत्रों की मानें तो कंपनी सर्वर क्रैश होने की बात कहकर फोरेंसिक ऑडिटर से कोई डाटा साझा नहीं किया है. सूत्रों के मुताबिक ऑडिट फर्म ईवाय को फोरेंसिक ऑडिट का काम अगस्त में दिया गया था और 15 अक्टूबर तक रिपोर्ट सौंपी जानी थी, लेकिन फोरेंसिक ऑडिटर को पर्याप्त जानकारी नहीं मिलने की वजह से फोरेंसिक ऑडिट का काम आगे नहीं बढ़ पा रहा है. आपको बता दें कि बैंकों और वित्तीय संस्थानों का कॉक्स एंड किंग्स पर करीब 3615 करोड़ रुपए का बकाया है.

यह भी पढ़ेंः अमित शाह के दावे पर राहुल गांधी का शायराना जवाब, कहा- 'सबको मालूम है सीमा की हकीकत...'

यस बैंक घोटाले से भी जुड़े हैं तार
गौरतलब है कि बीते साल कॉक्स एंड किंग्स ने वित्तीय संकट के मद्देनजर अंतिम समय में यूरोप के लिए ग्रुप टूर को रद्द कर दिया जिसके बाद उसके शेयर में जबरदस्त कमी दर्ज की गई थी. इसके साथ ही कंपनी ने मुंबई के मुख्य ऑफिस में काम करने वाले सैकड़ों कर्मचारियों को नौकरी छोड़ने का नोटिस दे दिया था.अनिल अंबानी ग्रुप, एस्सेल ग्रुप, आईएलएफएस, दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड, कॉक्स एंड किंग्स, और भारत इंफ्रा सहित 10 बड़े व्यापारिक समूहों से जुड़ी 44 कंपनियां यस बैंक के 34,000 करोड़ रुपये के बैड लोन का जिम्मेदार हैं.

First Published : 08 Jun 2020, 12:09:47 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.