News Nation Logo
Agnipath Scheme: आज से Air Force में भर्ती के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे 2002 Gujarat Riots: जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज Agnipath Scheme: एयरफोर्स के लिए अग्निवीरों का रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनRead More » राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामा Coronavirus: भारत में 17000 से ज्यादा केस, 5 माह में सबसे ज्यादा मामलेRead More » यशवंत सिन्हा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का 'जेड (Z)' श्रेणी का सशस्त्र सुरक्षा कवच प्रदान किया NCP प्रमुख शरद पवार से मिलने मुंबई के लिए शिवसेना नेता संजय राउत वाई.बी. चव्हाण सेंटर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच के खिलाफ जाकिया जाफरी की याचिका की खारिजRead More » महाराष्ट्र सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को करेगा सुनवाई

भारत की जीडीपी में 2020 में आ सकती है 3.1 प्रतिशत की गिरावट: मूडीज

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारतीय अर्थव्यवस्था के आकार में 2020 में 3.1 फीसदी की गिरावट आने का सोमवार को अनुमान व्यक्त किया.

Bhasha | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 22 Jun 2020, 11:10:37 PM
demo photo

भारत की जीडीपी में 2020 में आ सकती है 3.1 प्रतिशत की गिरावट (Photo Credit: प्रतिकात्मक फोटो)

दिल्ली:  

क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने भारतीय अर्थव्यवस्था के आकार में 2020 में 3.1 फीसदी की गिरावट आने का सोमवार को अनुमान व्यक्त किया. एजेंसी ने भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव के कारण एशिया में भौगोलिक स्थितियों में बदलाव आने की भी आशंका व्यक्त की. इससे पहले मूडीज ने अप्रैल में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 2020 में 0.2 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान व्यक्त किया था.

अब एजेंसी ने कोरोना वायरस महामारी के असर को लेकर अपने अनुमान में संशोधन किया है. हालांकि मूडीज का मानना है कि इसके बाद 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था तेजी से वापसी करेगी और 6.9 प्रतिशत की दर से वृद्धि दर्ज कर सकती है. मूडीज ने ग्लोबल मैक्रो आउटलुक (2020-21) के अपने जून के अपडेट में कहा कि उसने भारत के लिये 2020 के वृद्धि पूर्वानुमान को संशोधित किया है क्योंकि आंकड़ों से जनवरी-मार्च और अप्रैल-जून तिमाही में कोरोना वायरस महामारी से उत्पन्न व्यवधान के असर का पता चल रहा है.

इसे भी पढ़ें:गोवा में कोरोना से पहली मौत, तमिलनाडु को COVID-19 संक्रमण मामले में दिल्ली ने छोड़ा पीछे

उसने कहा, ‘2020 की अप्रैल-जून तिमाही इतिहास में कम से कम द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिये सबसे खराब तिमाही के रूप में दर्ज की जायेगी. हम साल की दूसरी छमाही में धीरे-धीरे वापसी की उम्मीद करना जारी रखते हैं, लेकिन यह परिणाम इस बात पर निर्भर करेगा कि क्या सरकारें सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा करते हुए अपनी अर्थव्यवस्थाओं को फिर से खोल सकती हैं.’

मूडीज ने अनुमान लगाया है कि चीन इस वर्ष वृद्धि दर्ज करने वाला एकमात्र जी -20 देश होगा. एजेंसी को उम्मीद है कि चीन 2020 में एक फीसदी की दर से और इसके बाद 2021 में 7.1 फीसदी की मजबूत दर से वृद्धि करेगा. उसने कहा, "एशियाई देश भू-राजनीतिक गतिशीलता में बदलाव के लिये विशेष रूप से संवेदनशील हैं. दक्षिण चीन सागर की सीमा पर चीन तथा कुछ देशों के बीच तनाव बढ़ने और भारत के साथ सीमा पर झड़पों से संकेत मिलते हैं कि पूरे क्षेत्र के लिए भू-राजनीतिक जोखिम बढ़ रहे हैं.’’ पिछले हफ्ते पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के सैनिकों के साथ हिंसक टकराव में एक कर्नल सहित भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गये थे.

और पढ़ें: चीन सरहद पर बार-बार क्यों दे रहा धोखा, रिटायर्ड सूबेदार मेजर ताशी दोरजे ने बताया कारण

इससे दोनों देशों के बीच सीमा तनाव बढ़ गया है. मूडीज की उम्मीद है कि जी -20 की अर्थव्यवस्था 2020 में 4.6 प्रतिशत की दर से गिरेगी, इसके बाद 2021 में 5.2 प्रतिशत की वृद्धि होगी. मूडीज ने इस महीने की शुरुआत में भारत की क्रेडिट रेटिंग को एक पायदान घटाकर 'बीएए3' कर दिया था. यह निवेश योग्य सबसे निचली रेटिंग श्रेणी है

First Published : 22 Jun 2020, 11:10:37 PM

For all the Latest Business News, Economy News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.