News Nation Logo

Union Budget 2021-22: CII ने मोदी सरकार को इंपोर्ट ड्यूटी को लेकर दिए ये अहम सुझाव

Union Budget 2021-22: कच्चे माल के लिए शून्य से 2.5 प्रतिशत तक शुल्क रखने का सुझाव दिया गया है. वहीं तैयार माल के लिए पांच से 7.5 प्रतिशत तक और मध्यवर्ती सामान के लिए 2.5 से पांच प्रतिशत तक आयात शुल्क रखने का सुझाव दिया है.

Bhasha | Updated on: 28 Dec 2020, 03:58:55 PM
Union Budget 2021-22

Union Budget 2021-22 (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली :

Union Budget 2021-22: उद्योग संगठन सीआईआई (CII) ने केंद्र की नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) सरकार को अपनी बजट पूर्व सिफारिशों के तहत अगले तीन साल के दौरान आयात शुल्क को प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए इसे वर्गीकृत बनाने का सुझाव दिया है. इसके तहत कच्चे माल के लिए शून्य से 2.5 प्रतिशत तक शुल्क रखने का सुझाव दिया गया है. वहीं तैयार माल के लिए पांच से 7.5 प्रतिशत तक और मध्यवर्ती सामान के लिए 2.5 से पांच प्रतिशत तक आयात शुल्क रखने का सुझाव दिया है. 

यह भी पढ़ें: Union Budget 2021-22: मोदी सरकार बजट में मेडिकल इक्विपमेंट को लेकर सकती है ये बड़ा ऐलान

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) ने वैश्विक व्यापार प्रवृत्तियों के अनुरूप घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए इस मसौदे का प्रस्ताव दिया है, जो अगले तीन से पांच वर्षों में वैश्विक मूल्य श्रृंखलाओं के अनुसार भारत के निर्यात को प्रतिस्पर्धी बनाएगा. उद्योग मंडल ने कहा कि यह भारतीय उद्योग को वैश्विक बाजारों में अपने माल और सेवाओं को प्रतिस्पर्धी बनाने और वैश्विक मूल्य श्रृंखला के साथ जोड़ने में मदद करेगा. 

यह भी पढ़ें: Union Budget: बजट में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं पर खर्च करने पर होगा जोर

पारिश्रमिक की सीमा को 50,000 रुपये प्रतिमाह तक बढ़ाने का सुझाव
सीआईआई ने उच्च स्तर पर रोजगार को बढ़ावा देने के लिए पारिश्रमिक की सीमा को 50,000 रुपये प्रतिमाह तक बढ़ाने का सुझाव भी दिया. आयकर अधिनियम की धारा 80जेजेएए के तहत किसी भारतीय विनिर्माण कंपनी द्वारा नये कर्मचारी की नियुक्ति की स्थिति में तीन वर्षों तक अदा किये गये पारिश्रमिक पर उसे टैक्‍स लाभ दिया जाता है। इस समय यह लाभ प्रतिमाह 25,000 रुपये तक के वेतन पर मिलता है.

First Published : 28 Dec 2020, 03:57:34 PM

For all the Latest Business News, Budget News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.