News Nation Logo

'मुस्लिमों' पर न हो 'जरा भी रहम', चीनी राष्ट्रपति ने शी जिनपिंग ने दिए थे आदेश

लीक हुए चीन के सरकारी दस्तावेजों से पता चलता है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने खुद ही एक आदेश जारी कर कहा था कि चरमपंथी और अलगाववादियों पर कोई रहम न किया जाए.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Nov 2019, 07:30:43 AM
उइगर मुस्लमानों के समर्थन में है पूरी दुनिया.

highlights

  • चीन के लीक सरकारी दस्तावेजों से हुआ बड़ा खुलासा.
  • शी जिनपिंग ने दिए थे उइगर मुस्लिमों के खिलाफ आदेश.
  • न्यूयॉर्क टाइम्स ने किया बड़ा खुलासा.

New Delhi:

चीन अपने यहां के उइगर मुसलमानों के उत्पीड़न और उनके मानवाधिकारों के हनन को लेकर अंतरराष्ट्रीय बिरादरी की आलोचनाओं को झेल रहा है. यह अलग बात है कि वह इसे अपना आंतरिक मसला बताकर सभी को चुप कराने की कोशिश में न सिर्फ रहता है, बल्कि इस मसले पर सख्ती से पेश आता है. हालांकि यह किसी से छिपा नहीं है कि चीन ने शिनजियांग प्रांत में लाखों उइगर मुस्लिमों को नजरबंदी शिविरों में रख छोड़ा है. अब लीक हुए चीन के सरकारी दस्तावेजों से पता चलता है कि चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने खुद ही एक आदेश जारी कर कहा था कि चरमपंथी और अलगाववादियों पर कोई रहम न किया जाए.

यह भी पढ़ेंः अयोध्या फैसले पर पुनर्विचार याचिका को लेकर AIMPLB और सुन्नी वक्फ बोर्ड आमने-सामने

न्यूयॉर्क टाइम्स ने लीक दस्तावेजों से किया खुलासा
अमेरिकी अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स ने इन दस्तावेजों के हवाले से एक विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित की है. इसमें कहा गया है कि चीन के शिनजियांग सूबे में नजरबंदी शिविरों में दस लाख से ज्यादा उइगर और अन्य मुस्लिम अल्पसंख्यकों को रखा गया है. 403 पन्नों वाले आंतरिक दस्तावेज कम्युनिस्ट पार्टी की बेहद गोपनीय विवादास्पद कार्रवाई के बारे में बताते हैं. इन लीक दस्तावेजों में शी के कुछ पूर्व के अप्रकाशित भाषणों के साथ ही उइगर आबादी पर निगरानी और नियंत्रण को लेकर दिए गए निर्देश व रिपोर्ट शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः अर्बन नक्सल खुद को श्रद्धालु साबित करने जा रहे सबरीमाला मंदिर: वी मुरलीधरन

राष्ट्रपति ने कहा था पूरी सख्ती से पेश आएं
न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक दक्षिण-पश्चिम चीन में अल्पसंख्यक उइगर उग्रवादियों द्वारा एक रेलवे स्टेशन पर 31 लोगों की हत्या करने के बाद अधिकारियों को 2014 में दिए गए भाषण में शी ने 'आतंकवाद, घुसपैठ और अलगाववाद' के खिलाफ पूर्ण संघर्ष का आह्वान करते हुए 'तानाशाही के अंगों' का इस्तेमाल करने और 'कभी भी दया नहीं' दिखाने को कहा था. हालांकि लीक दस्तावेजों से यह भी लगता है कि इस कार्रवाई को लेकर पार्टी के अंदर कुछ असंतोष भी था. अखबार के मुताबिक, ये दस्तावेज चीनी राजनीतिक व्यवस्था से जुड़े एक अनाम शख्स ने लीक किए जिसने यह उम्मीद जताई कि यह खुलासा शी समेत नेतृत्व को बड़े पैमाने पर हिरासत के दोष से बचने से रोकेगा.

First Published : 18 Nov 2019, 07:30:43 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.