News Nation Logo
कल सुबह बिपिन रावत के घर जाएंगे उत्तराखंड के सीएम पुष्कर धामी प्रधानमंत्री के आवास पर सीसीएस की आपात बैठक होगी हेलीकॉप्टर हादसे में एक शख्स को​ जिंदा बचाया गया: डीएम हेलीकॉप्टर हादसे पर बयान जारी करेगी वायु सेना वायुसेना ने CDS बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की वायुसेना ने सीडीएस बिपिन रावत की मौत की पुष्टि की DNA टेस्ट से होगी शवों की पहचान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के हेलीकॉप्टर हादसे के बारे में पीएम मोदी को दी जानकारी हेलीकॉप्टर क्रैश में अब तक 13 लोगों की मौत की पुष्टि हेलीकॉप्टर क्रैश के बाद CDS बिपिन रावत के घर पहुंचे एमएम नरवणेRead More » CDS बिपिन रावत के हेलीकॉप्टर क्रैश मामले में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह कल संसद में देंगे बयान ढाई बजे हेलीकॉप्टर में लगी आग बुझाई गई

WHO ने किया आगाह- कोरोना वायरस से जुड़ी पाबंदियां जल्दबाजी में हटाने के घातक परिणाम हो सकते हैं, इसलिए...

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को आगाह किया कि कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियां अगर जल्दबाजी में खत्म की गईं तो इसके घातक परिणाम हो सकते हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 10 Apr 2020, 11:03:15 PM
who

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) (Photo Credit: फाइल फोटो)

जिनेवा:

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को आगाह किया कि कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियां अगर जल्दबाजी में खत्म की गईं तो इसके घातक परिणाम हो सकते हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टेड्रोस एडहानोम घेब्रेयासस ने जिनेवा में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हर किसी की तरह डब्ल्यूएचओ भी पाबंदियां खत्म होते देखना चाहता है, लेकिन जल्दबाजी में पाबंदियां खत्म करने से घातक परिणाम हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि अगर हम सही तरीके से इससे नहीं निपटेंगे तो इसके खतरनाक परिणाम हो सकते हैं.

यह भी पढे़ंःभारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 7,000 पार, लॉकडाउन बढ़ने की संभावना

डब्ल्यूएचओ ने पहले ही किया था आगाह

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ रहे मामलों को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत से आह्वान किया ता कि कोरोना के प्रसार के खिलाफ आक्रामक कार्रवाई जारी रखी जाएं. कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए भारत की ओर से उठाए गए कदम पर डब्लूएचओ के कार्यकारी निदेशक माइकल जे रेयान ने कहा था कि भारत चीन जैसा ही बेहद घनी आबादी वाला देश है.

उन्होंने कहा कि इन घनी आबादी वाले देशों में जो कुछ होगा उससे ज्यादा हद तक कोरोना वायरस का भविष्य निर्धारित होगा. उन्होंने आगे कहा कि यह वास्तव में बेहद महत्वपूर्ण है. इसलिए यह जरूरी है कि भारत सार्वजनिक स्वास्थ्य पर अपनी आक्रामक कार्रवाई जारी रखे.

यह भी पढे़ंःकोरोना वायरस के खिलाफ वैश्विक जंग में ग्लोबल लीडर के रूप में उभरे PM मोदी

माइकल जे रेयान ने यह भी कहा था कि भारत ने साइलेंट किलर कही जाने वाली दो गंभीर बीमारियों - स्मॉल पॉक्स और पोलियो के उन्मूलन में दुनिया की अगुवाई की है. भारत में जबरदस्त क्षमता है, सभी देशों में भी जबरदस्त क्षमता है कि वे अपने समुदायों और नागरिक समाजों को एकत्र करें.

दूसरी ओर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने कोरोना की भयावहता देखते हुए पूरी दुनिया से वैश्विक शांति को लेकर आह्वान किया था. उन्होंने कहा कि मैं दुनिया के सभी कोनों में तत्काल वैश्विक युद्ध विराम का आह्वान कर रहा हूं. यह समय लॉकडाउन पर सशस्त्र संघर्ष और हमारे जीवन की सच्ची लड़ाई पर एक साथ ध्यान केंद्रित करने, शत्रुता को पीछे छोड़ने और अविश्वास और दुश्मनी को दूर करने का है.

First Published : 10 Apr 2020, 10:56:35 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो