News Nation Logo
पन्ना: देर रात तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवारों को रौंदा पन्ना: बाइक सवार दो लोगों की घटनास्थल पर दर्दनाक मौत, एक गंभीर घायल पन्ना: बनहरी गांव के बताए जा रहे हैं दोनों मृतक Police Commemoration Day के लिए आज राष्ट्रीय पुलिस स्मारक पर फुल ड्रेस रिहर्सल का आयोजन किया गया नैनीताल: मलबे, बॉल्डर और पेड़ो की चपेट में आए तीन घर नैनीताल के बिरला क्षेत्र के कुमाऊं लॉज में देर रात भारी भूस्खलन गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

तालिबान से बातचीत न करके दुनिया क्यों ले रही है जोखिम :मोईद यूसुफ

पाकिस्तान के एनएसए ने अफगानिस्तान को अलग-थलग छोड़ने के परिणामों के बारे में चेतावनी देते हुए कहा कि एक सुरक्षा शून्य क्षेत्र फिर से आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बन सकता है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 16 Sep 2021, 11:30:43 PM
TALIBAN

तालिबान लड़ाके (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • पाकिस्तान के NSA मोईद यूसुफ तालिबान सरकार पर विश्व के मौजूदा दृष्टिकोण से नाराज
  • अफगानिस्तान को अलग-थलग छोड़ने के परिणामों के बारे में पाक NSA ने दी चेतावनी
  • दुनिया को अफगानिस्तान को छोड़ने की कीमत के बारे में सोचना चाहिए

नई दिल्ली:

पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ ने कहा कि  अफगानिस्तान के प्रति विश्व के देशों का मौजूदा दृष्टिकोण युद्धग्रस्त देश को आर्थिक मंदी की ओर धकेल देगा. अफगानिस्तान में तालिबान की अंतरिम सरकार को मान्यता देने की अंतरराष्ट्रीय समुदाय की "देखो और इंतजार करो" की नीति से पाकिस्तान नाराज है. डॉन अखबार की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोईद यूसुफ ने कहा कि मौजूदा दृष्टिकोण युद्धग्रस्त देश को आर्थिक मंदी की ओर धकेल देगा. डॉन ने यूसुफ के हवाले से कहा, "अगर दुनिया इस बातचीत में दिलचस्पी रखती है, तो इसे सीधे नई सरकार के साथ होने की जरूरत है. दुनिया जिस तरह से शासन करना चाहती है, उसे प्रभावित करने और ढालने के लिए उनके साथ बातचीत होनी चाहिए.  बिना बातचीत के यह संभव नहीं होगा." 

यह भी पढ़ें:मौत की अफवाहों के बाद अफगानिस्तान के डिप्टी पीएम मुल्ला बरादर ने जारी किया वीडियो

जबकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने अफगानिस्तान में मानवीय सहायता के प्रयासों को आगे बढ़ाने के बाद अपना कदम रोक रखा है. इसने तालिबान को पहचानने में तत्काल कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई है, सुन्नी पश्तून समूह के शरीयत कानून के कठोर संस्करण को लागू करने के नाम पर घोर मानवाधिकार उल्लंघन के इतिहास को देखते हुए कई देशों ने कहा है कि वे तालिबान की कार्रवाइयों का इंतजार करेंगे और देखेंगे, जो पिछली बार अफगानिस्तान पर शासन करने से अलग होने का दावा कर रहे हैं.

अफगानिस्तान को अलग-थलग छोड़ने के परिणामों के बारे में चेतावनी देते हुए पाकिस्तान के एनएसए ने कहा कि एक सुरक्षा शून्य क्षेत्र फिर से आतंकवादियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह बन सकता है. "आप पहले से ही जानते हैं कि आईएसआईएस (आतंकवादी इस्लामिक स्टेट समूह) वहां पहले से मौजूद है, पाकिस्तानी तालिबान वहां हैं, अल कायदा वहां है. हम सुरक्षा शून्य का जोखिम क्यों उठाते हैं?"  

यूसुफ ने शरणार्थी संकट या आतंकवाद या दोनों के बारे में चेतावनी देते हुए दुनिया के देशों को तालिबान के साथ जुड़ने और बातचीत करने का आह्वान कर रहे हैं. एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में, पाक सुरक्षा सलाहकार ने कहा कि अफगानिसतान में प्रशासन के पतन और एक और शरणार्थी संकट को रोकने के लिए दुनिया को अफगान तालिबान से रचनात्मक रूप से जुड़ने की जरूरत है.

सेंटर फॉर एयरोस्पेस एंड सिक्योरिटी स्टडीज (सीएएसएस) द्वारा आयोजित एक वेबिनार में उन्होंने कहा, "दुनिया को अफगानिस्तान को छोड़ने की कीमत के बारे में सोचना चाहिए."
 
इस बीच अफगानिस्तान में  विद्रोह के वर्षों के दौरान पाकिस्तान पर तालिबान का समर्थन करने का आरोप लगता रहा है. और वह तालिबान सरकार बनाने में सक्रिय था. पाकिस्तान के शक्तिशाली खुफिया प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल फैज हमीद ने हाल ही में समूह के डी-फैक्टर नेता मुल्ला अब्दुल गनी बरादर से मुलाकात की, जिन्हें बाद में अनंतिम सरकार के उप प्रधान मंत्री के रूप में नामित किया गया था.

First Published : 16 Sep 2021, 11:27:27 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो