News Nation Logo
नैनीताल: मलबे, बॉल्डर और पेड़ो की चपेट में आए तीन घर नैनीताल के बिरला क्षेत्र के कुमाऊं लॉज में देर रात भारी भूस्खलन गृह मंत्री अमित शाह ने भाजपा के 'सेवा ही संगठन' कार्यक्रम के तहत 'मोदी वैन' पहल को हरी झंडी दिखाई मैं PM नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जे.पी. नड्डा और राजनाथ सिंह का आभार व्यक्त करता हूं: बाबुल सुप्रियो जिस पार्टी के लिए मैंने 7 साल मेहनत की, उसे छोड़ते वक्त दिल व्यथित था: बाबुल सुप्रियो बिहार: CBSE ने 10वीं और 12वीं कक्षा के टर्म-1 की डेटशीट जारी की युवाओं को रोजगार देने दिल्ली सरकार लांच करेगी रोजगार 2.0 एप सेना प्रमुख एमएम नरवणे जम्मू के दो दिवसीय दौरे पर, लेंगे सुरक्षा का जायजा बांग्लादेश में हिंदुओं पर हो रहे हमलों को लेकर देश में उबाल नैनीताल में बादल फटने से तबाही का आलम. रामनगर के रिसॉर्ट में 100 लोग फंसे उत्तराकंड के सीएम ने जलप्रलय वाले स्थानों का दौरा किया

अमेरिका के खरबों डॉलर के राहत पैकेज को नहीं मिली सीनेट की मंजूरी

विधेयक में कोरोना वायरस महामारी के चलते हुई बंदी (Lockdown) के कारण अमेरिकी परिवारों को सहायता देने और बंद पड़े हजारों कारोबार को मदद देने के लिए 1700 अरब डॉलर के अनुमानित पैकेज का प्रस्ताव था.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 23 Mar 2020, 02:19:49 PM
USA

अमेरिकी अर्थव्यवस्था (US Economy) (Photo Credit: फाइल फोटो)

वाशिंगटन:

अमेरिकी अर्थव्यवस्था (US Economy) को बचाने के लिए लाए गए खरबों डॉलर के राहत पैकेज (Bailout Package) के प्रस्ताव को अमेरिकी सीनेट की मंजूरी नहीं मिल सकी. इस प्रस्ताव को डेमोक्रेटस की तरफ से कोई समर्थन नहीं मिला, जबकि कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के चलते पांच रिपब्लिकन सांसद अनुपस्थित रहे. डेमोक्रेट का कहना था कि रिपब्लिकन योजना लाखों अमेरिकी श्रमिकों को पर्याप्त सुरक्षा देने में विफल रही है और इसमें कोरोना वायरस संकट के दौरान पर्याप्त स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली को दरकिनार कर किया गया है.

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: वायदा बाजार में सोने की कीमतों में आया उछाल, जानिए क्यों आई तेजी

1700 अरब डॉलर के अनुमानित पैकेज का था प्रस्ताव

विधेयक में कोरोना वायरस महामारी के चलते हुई बंदी (Lockdown) के कारण अमेरिकी परिवारों को सहायता देने और बंद पड़े हजारों कारोबार को मदद देने के लिए 1700 अरब डॉलर के अनुमानित पैकेज का प्रस्ताव था. रिपब्लिकन, डेमोक्रेट और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (US President Donald Trump) प्रशासन के बीच गहन बातचीत के बावजूद पैकेज को लेकर सहमति नहीं बन सकी और सदन में विधेयक को पारित होने के लिए जरूरी मत नहीं मिल सके.

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस से लड़ने के लिए शराब कंपनियां भी बना रही हैं सेनिटाइजर

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते पांच रिपब्लिकन सांस वोट नहीं दे सके. इससे पहले इस पैकेज को पारित कराने के लिए विधि निर्माताओं के बीच रविवार को बंद दरवाजे में बातचीत हुई, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका.

First Published : 23 Mar 2020, 02:19:49 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो