News Nation Logo
कोरोना के नए वैरिएंट ओमीक्रॉम का खतरा बढ़ा, 30 देशों तक फैला वायरस ओमिक्रॉन पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी 66 और 46 साल के दो मरीज आइसोलेशन में रखे गए भारत में ओमीक्रॉन वायरस की पुष्टि कर्नाटक में मिले ओमीक्रॉन के 2 मरीज सीएम योगी आदित्यनाथ ने प. यूपी को गुंडे-माफियाओं से मुक्त कराकर उसका सम्मान लौटाया है: अमित शाह जहां जातिवाद, वंशवाद और परिवारवाद हावी होगा, वहां विकास के लिए जगह नहीं होगी: योगी आदित्यनाथ पीएम नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में देश में चक्रवात से संबंधित स्थिति पर हुई समीक्षा बैठक प्रभावित देशों से आने वाले यात्रियों का एयरपोर्ट पर RT-PCR टेस्ट किया जा रहा है: सत्येंद्र जैन दिल्ली में पिछले कुछ महीनों से कोविड मामले और पॉजिटिविटी रेट काफी कम है: सत्येंद्र जैन आंदोलनकारी किसानों की मौत और बढ़ती महंगाई के मुद्दे पर विपक्षी सांसदों ने राज्यसभा में नारेबाजी की दिल्ली में आज भी प्रदूषण का स्तर काफी खराब, AQI 342 पर पहुंचा बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, मुंबई BJP के एक नेता ने दर्ज कराई FIR यूपी सरकार ने भी ओमीक्रॉन को लेकर कसी कमर, बस स्टेशन- रेलवे स्टेशन पर होगी RT-PCR जांच

पाक हवाई अड़्डे से चलेगा अफगानिस्तान में अमेरिकी सैन्य अभियान, समझौता जल्द

अब अमेरिका युद्धग्रस्त राष्ट्र में अपने सैन्य अभियानों को जारी रखने के लिए पाकिस्तान के साथ एक समझौता कर रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 23 Oct 2021, 09:03:51 PM
JOE BIDEN

जो बाइडेन, अमेरिका के राष्ट्रपति (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • अमेरिकी सेना को हवाई पट्टी का उपयोग करने के बदले पाकिस्तान क्या चाहता है अभी पता नहीं
  • अमेरिका को हवाई अड्डे की जरूरत सैनिकों के अफगानिस्तान पहुंचने के लिए आवश्यक  
  • अमेरिका-पाकिस्तान के बीच समझौता पूरा होने के करीब है

 

नई दिल्ली:

संयुक्त राज्य अमेरिका 30 अगस्त को अफगानिस्तान को अपने हाल पर छोड़कर निकल गया. अमेरिका ने अफगानिस्तान से जाने की समय सीमा स्वयं तय की थी.  स्व-घोषित समय सीमा से एक दिन पहले 30 अगस्त को अमेरिका ने अफगानिस्तान से अपनी सेना की वापसी पूरी कर ली थी. अमेरिका के हटने के पहले ही 15 अगस्त को तालिबान ने काबुल को अपने कब्जे में कर लिया था. अब अमेरिका युद्धग्रस्त राष्ट्र में अपने सैन्य अभियानों को जारी रखने के लिए पाकिस्तान के साथ एक समझौता कर रहा है. एक रिपोर्ट के अनुसार बाइडेन प्रशासन ने अमेरिकी सांसदों को सूचित किया है कि पाकिस्तान से समझौता  पूरा होने के करीब है. रिपोर्ट में कहा गया है कि एक बार औपचारिक समझौता हो जाने के बाद, अमेरिकी सेना पड़ोसी अफगानिस्तान में ऑपरेशन के लिए पाकिस्तान के हवाई क्षेत्र का उपयोग करेगी.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस्लामाबाद चाहता है कि एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए जाये, जो कि अपने स्वयं के आतंकवाद विरोधी प्रयासों में सहायता के बदले में हस्ताक्षर किए जाएं, हालांकि सौदे की शर्तों को अभी तक अंतिम रूप नहीं दी गई हैं, शर्तों में बदलाव भी हो सकता है. कुछ अमेरिकी अधिकारियों की इस्लामाबाद की हालिया यात्रा के दौरान समझौते पर चर्चा हुई है, हालांकि अभी यह पता नहीं है कि अमेरिकी सेना को हवाई पट्टी का उपयोग करने की अनुमति देने के बदले पाकिस्तान क्या चाहता है,  या फिर वाशिंगटन पाकिस्तान की शर्तों को  कितना स्वीकार करने को तैयार है.

यह भी पढ़ें: फिलिस्तीन ने नई आवास इकाइयों के निर्माण की इजरायल की योजना की निंदा की

वर्तमान में उक्त हवाई क्षेत्र का उपयोग अमेरिकी सैनिकों द्वारा अफगानिस्तान में चल रहे अपने खुफिया अभियानों के लिए करता है. हालांकि, वाशिंगटन को हवाई क्षेत्र के भीतर एक महत्वपूर्ण हवाई गलियारे तक निरंतर पहुंच सुनिश्चित करने के लिए एक औपचारिक समझौते की आवश्यकता है जो कि उसके सैनिकों  के लिए अफगानिस्तान तक पहुंचने के लिए आवश्यक है. इसके महत्व को इस तथ्य से उजागर किया गया है कि यह तब और भी महत्वपूर्ण हो जाएगा जब संयुक्त राज्य अमेरिका अपने अमेरिकियों और अन्य लोगों को निकालने के लिए अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में अपनी उड़ानें फिर से शुरू करेगा. किसी भी औपचारिक समझौते के अभाव में, अमेरिका को पाकिस्तान द्वारा पूर्व सैन्य विमानों और अफगानिस्तान की ओर बढ़ने वाले ड्रोन में प्रवेश से इनकार करने की संभावना का सामना करना पड़ता है.

First Published : 23 Oct 2021, 09:03:51 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो