News Nation Logo
मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

अल-अक्सा मस्जिद में यहूदियों के प्रवेश पर बवाल, इजरायल के खिलाफ आए देश

फिलिस्तीन ने इजराइली अदालत के उस फैसले की निंदा की है, जिसमें यहूदियों को पूर्वी यरुशलम के पुराने शहर अल-अक्सा मस्जिद में प्रार्थना करने का सीमित अधिकार दिया गया था.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 07 Oct 2021, 02:59:30 PM
Al Aksa

अल अक्सा मस्जिद फिर बनी विवाद की जड़. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • इजरायल ने यहूदियों को मस्जिद में प्रवेश के दिए सीमित अधिकार
  • मुस्लिम राष्ट्रों समेत फिलिस्तीन में आया राजनीतिक तूफान

येरूशलम:

फिलिस्तीन ने इजराइली अदालत के उस फैसले की निंदा की है, जिसमें यहूदियों को पूर्वी यरुशलम के पुराने शहर अल-अक्सा मस्जिद में प्रार्थना करने का सीमित अधिकार दिया गया था. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार एक बयान में फिलिस्तीनी विदेश मंत्रालय ने इस कदम को अल-अक्सा मस्जिद के खिलाफ एक प्रमुख आक्रमण बताया है. अल-अक्सा मस्जिद परिसर मुसलमानों और यहूदियों दोनों के लिए पवित्र स्थल है. बयान में कहा गया है कि इजराइली अदालत का फैसला मस्जिद के पवित्र परिसर को विभाजित करने की दिशा में एक कदम है. इससे अल-अक्सा मस्जिद और इसकी ऐतिहासिक और कानूनी स्थिति पर खतरनाक परिणाम होंगे.

नइ इजरायली सरकार के इरादे आक्रामक
उन्होंने यह भी कहा कि वह इस फैसले का सामना करने के लिए सभी प्रयास करेंगे और सभी राजनीतिक और कूटनीतिक कार्रवाई करेंगे. बयान में कहा गया है कि विदेश मंत्रालय क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर जॉर्डन, अरब लीग और इस्लामिक सहयोग संगठन के साथ प्रयासों का समन्वय करेगा. इस बीच अरब लीग के महासचिव अहमद अबुल-घेट ने भी अदालत के फैसले की निंदा करते हुए कहा कि यह 'खतरनाक' था और नई इजराइली सरकार के इरादों और फिलिस्तीनी उपस्थिति को लक्षित करने की इसकी निरंतर योजनाओं को प्रतिबिंबित करता था.

यह भी पढ़ेंः लखीमपुर से बना माहौल कांग्रेस को देगा मौका, फिर भी बीजेपी की काट नहीं

इजरायल की नीतियां फिलिस्तीनियों को भड़का रहीं
अबुल-घेट ने कहा कि अदालत के फैसले सहित इजराइल की नीतियां, फिलिस्तीनियों को भड़काने का जोखिम उठाती है, क्योंकि यह धार्मिक भावनाओं को छूती है. उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय समाज से यरुशलम शहर की कानूनी और ऐतिहासिक स्थिति को बनाए रखने के लिए अपनी जिम्मेदारी वहन करने का आह्वान किया है. अल अक्सा मस्जिद को लेकर हिंसा के बीच मुस्लिम देशों में इजरायल के खिलाफ माहौल बनता जा रहा है. 

First Published : 07 Oct 2021, 02:59:30 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो