News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

फिर सामने आया तालिबान का क्रूर चेहरा, बीच चौराहे पर दिया इस घटना को अंजाम

अफगानिस्तान में महिलाओं की सबसे बुरी स्थिति हो गई है. तालिबान ने सत्ता पर काबिज होते ही शरिया कानून को लागू कर दिया. जिससे खेल का भी भविष्य संकट में आ गया है. अफगानिस्तान की जूनियर महिला वॉलीबॉल टीम की प्लेयर का सिर कलम कर दिया.

News Nation Bureau | Edited By : Satyam Dubey | Updated on: 20 Oct 2021, 08:15:55 PM
Taliban militants

Taliban militants (Photo Credit: news nation)

नई दिल्ली:

तालिबान का शासन आते ही अफगानिस्तान में महिलाओं की सबसे बुरी स्थिति हो गई है. तालिबान ने सत्ता पर काबिज होते ही शरिया कानून को लागू कर दिया. जिससे खेल का भी भविष्य संकट में आ गया है. अफगानिस्तान से एक ऐसी हैरान करने वाली खबर सामने आई है, जिसे जानकर आप भी दंग रह जायेंगे. तालिबान के लड़ाकों ने अफगानिस्तान की जूनियर महिला वॉलीबॉल टीम की प्लेयर का सिर कलम कर दिया. इस बात की जानकारी जूनियर महिला नेशनल टीम के कोच ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया को दी है. उन्होने बताया गया है कि महजबीन हकीमी नाम की प्लेयर को अक्टूबर के शुरुआत में तालिबान ने निर्मम हत्या कर दी. उन्होने आगे कहा कि किसी ने इस बारे में इसलिए कुछ नहीं कहा क्योंकि तालिबान ने परिजनों को धमकी दी थी.  

यह भी पढ़ें: CEO के साथ PM मोदी की बैठक, पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर क्या लगेगी लगाम?

अफगानिस्तान में जब अशरफ गनी की सरकार थी, उस वक्त महजबीन ने काबुल के लोकल क्लब में हिस्सा लिया था. वह क्लब की स्टार प्लेयर थी. अभी कुछ दिन पहले उनकी लाश की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थी.  टीम के कोच की मानें तो, अगस्त में जब तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा किया तब टीम की एक-दो मेंबर ही देश से बाहर निकल पाई थी. उन्होने बताया कि महजबीन उस वक्त अफगानिस्तान से बाहर नहीं जा पाई. जिसका खामियाजा उसे अपनी जान देकर भुगतना पड़ा.   

यह भी पढे़ं: जमानत के लायक नहीं आर्यन खान...कोर्ट के आदेश की कॉपी में लिखीं ये बातें

अफगानिस्तान में तालिबान का राज आते ही महिलाओं के हक को दबाया जा रहा है, इस वक्त अफगानिस्तान हर तरह के खेल संकट से जूझ रहा है. टीम के कोच ने बताया कि इस वक्त महिला खिलाड़ियों का सबसे ज्यादा बुरा हाल है, उन्होने कहा कि महिलाओं को देश छोड़ना पड़ रहा है. कुछ समय पहले फीफा ने अफगानिस्तान के कई पुरुष एवं महिला खिलाड़ियों और उनके परिजनों को सुरक्षित बाहर निकाला था. काबुल से इन सभी को कतर ले जाया गया था, ताकि वह सुरक्षित रह पाएं. तालिबान ने अफगानिस्तान में महिलाओं पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं. 

First Published : 20 Oct 2021, 08:15:55 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.