logo-image
लोकसभा चुनाव

Iran-Israel War: मिडिल ईस्ट के कई देशों में तनाव, जानें क्यों ईरान ने इजराइल से बदला लेने की ठानी

Iran-Israel War: बीते दिनों इजराइल ने ईरानी दूतावास पर 1 अप्रैल को हवाई हमला हुआ था. इसमें दो कमांडर और अन्य लोगों की मौत हो गई थी. इस हमले के बाद से ईरान ने इजराइल पर हमला की तैयारी शुरू कर दी है. इसे देखकर जमर्नी एयरलाइंस ने तेहरान की फ्लाइटों को र

Updated on: 11 Apr 2024, 03:33 PM

नई दिल्ली:

अप्रैल माह की शुरुआत में इजराइल ने सीरिया में ईरानी दूतावास पर हवाई हमला किया था. इसमें दो ईरानी कमांडर और सात अन्य लोगों की मृत्यु हो गई थी. इसके बाद ईरान ने इजराइल से बदला लेने की ठान ली है. ईरान ने चेतावनी भी दी है. इस कारण कई देशों में ईरान के  हमले को लेकर खौफ बना हुआ है. आम नागरिकों की सुरक्षा को लेकर जर्मनी की एयरलाइंस ने तेहरान के लिए अपनी सारी उड़ानों को रद्द कर दी है. ईरान ने इजराइल के किए हमले का बदला लेने की बात कही है. इसके बाद से मिडिल ईस्ट ने सभी देशों में तनाव के हालात बने हुए हैं. इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए जर्मनी की लुफ्थांसा एयरलाइंस ने तेहरान ने आने वाली और तेहरान को जाने वाली सभी फ्लाइटों को रद्द कर दिया है. एयरलाइंस के अनुसार, उसके लिए यात्रियों और उसके स्टाफ की सुरक्षा सबसे पहले है. इसकी वजह से 6 अप्रैल से लेकर 11 अप्रैल तक सभी फ्लाइटों को कैंसल किया गया है. 

ये भी पढ़ें: BRS नेता के.कविता की बढ़ी मुश्किल, CBI ने ईडी ​की हिरासत से किया गिरफ्तार

ईरानी हमले को लेकर हाई अलर्ट जारी

देशों के बीच तनाव का माहौल है. जब ईरानी न्यूज एजेंसी ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक रिपोर्ट पेश की है. इसमें कहा गया है कि  तेहरान के सभी हवाई क्षेत्रों को मिलिट्री ड्रिल के लिए बंद कर दिया गया है. बाद में इस पोस्ट को हटा दिया गया. इस पोस्ट को लेकर अब मुकरा जा रहा है. मिडिल ईस्ट के देशों के साथ अमेरिका में भी ईरानी हमले को लेकर हाई अलर्ट जारी है. ईरानी हमले से लड़ने की तैयारी की जा रही है. लुफ्थांसा एयरलाइंस के अनुसार, मिडिल ईस्ट पर वह नजर बनाए हुए है. वहां की अथॉरिटी से संपर्क स्थापित किया है. आपको बता दें कि लुफ्थांसा एयरलाइंस ओर इसकी सहायक ऑस्ट्रियन एयरलाइंस मात्र दो एयरलाइंस ही तेहरान में इंटरनेशनल फ्लाइट को लेकर सक्रिय हैं. 

इजराइल से बदला लेने की बात को दोहाराया

सीरिया की राजधानी दमिश्क में एक अप्रैल को इजराइल ने ईरानी दूतावास पर हवाई हमला किया था. इसमें 14 लोगों की मृत्यु हो गई थी. इसमें से सात सामान्य नागरिक थे और दो 2 ईरानी कमांडर थे. इसमें हमले में रिवोल्यूशनरी गार्ड्स की एक विशिष्ट विदेशी इकाई, कुद्स फोर्स के एक वरिष्ठ कमांडर मोहम्मद रजा जाहेदी की मृत्यु हो गई. इस दौरान ईरान के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ जनरल मोहम्मद बघेरी ने कमांडर के अंतिम संस्कार को लेकर इजराइल से बदला लेने की बात को दोहाराया था. उन्होंने कहा था कि इजराइल से बदला लेना होगा. इस साथ ही उन्होंने कहा था कि इजराइल की ओर से किए इस हमले पर जवाबी कार्रवाई की जाएगी. ईरान ये तय करेगा कि बदला लेने के लिए कब और कैसे ऑपरेशन करना होगा.