News Nation Logo

तालिबान ने अफगानिस्तान में हुक्का पर लगाया बैन

IANS | Edited By : IANS | Updated on: 26 Oct 2022, 12:49:38 PM
Taliban

(source : IANS) (Photo Credit: (source : IANS))

काबुल:  

अफगानिस्तान में तालिबान के नेतृत्व वाली सरकार ने हाल के वर्षो में हुक्का पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक फतवा, या इस्लामी फरमान जारी किया. हुक्का हाल के वर्षो में युद्धग्रस्त देश में एक आम दृश्य बन गया है. मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है. आरएफई/आरएल ने बताया कि उग्रवादी इस्लामी समूह, हुक्का (जिसे शीश के रूप में भी जाना जाता है) को एक नशीला पदार्थ मानता है, जिसे इस्लाम के तहत प्रतिबंधित किया गया है. इस महीने की शुरुआत में पश्चिमी प्रांत हेरात में हुक्का पर प्रतिबंध की घोषणा की गई थी. यह स्पष्ट नहीं है कि फतवा पूरे देश में लागू होगा या नहीं.

इस कदम का हेरात में व्यवसायों पर गंभीर प्रभाव पड़ा है, जहां कई शीशा कैफे को बंद करने के लिए मजबूर किया गया है. इस बीच, शीशा देने वाले रेस्तरां को ग्राहकों की संख्या कम होने के कारण कर्मचारियों की छंटनी करने के लिए मजबूर होना पड़ा है. हुक्का पर प्रतिबंध तालिबान द्वारा अफगानिस्तान में इस्लामी शरिया कानून की अपनी चरमपंथी व्याख्या को लागू करने का नया प्रयास है, जहां आतंकवादी समूह ने अगस्त 2021 में जबरन सत्ता पर कब्जा कर लिया था.

आरएफई/आरएल ने बताया कि हेरात में कैफे ओनर्स एसोसिएशन ने कहा कि प्रतिबंध के बाद लगभग 2,500 लोगों ने अपनी नौकरी खो दी है, जिससे कई निवासियों के लिए पहले से ही गंभीर आर्थिक स्थिति बढ़ गई है. तालिबान के अधिग्रहण ने एक आर्थिक पतन शुरू कर दिया और अफगानिस्तान में एक बड़ा मानवीय संकट पैदा कर दिया, जहां भूख और गरीबी व्यापक है.

हालांकि, तालिबान ने नसवार पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है, जो तम्बाकू से बना एक हल्का नशीला पदार्थ है. यह अफगान पुरुषों के बीच लोकप्रिय है, खासकर ग्रामीण इलाकों में, जिसमें तालिबान लड़ाके भी शामिल हैं. अप्रैल में, तालिबान ने अवैध नशीले पदार्थों पर पूर्ण प्रतिबंध की घोषणा की थी, हालांकि अफगान किसानों का कहना है कि वे अफीम सहित फसलें लगाना जारी रखेंगे.

First Published : 26 Oct 2022, 12:49:38 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.