News Nation Logo
Banner
Banner

स्टीफन लोफवेन अविश्वास मत हारे, ऐसा करने वाले स्वीडन के बने पहले पीएम

स्वीडिश पीएम स्टीफन लोफवेन रिक्सडैग ( Swedish PM Stefan Lofven ) स्वीडिश संसद में अविश्वास मत हार गए, जिससे वह विपक्षी सांसदों द्वारा अपदस्थ होने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 21 Jun 2021, 05:53:45 PM
Swedish PM Stefan Lofven

स्टीफन लोफवेन अविश्वास मत हारे (Photo Credit: @ANI)

highlights

  • प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ने सोमवार को विश्वास मत खो दिया
  • अविश्वास प्रस्ताव हारने वाले स्वीडन के पहले नेता बने 
  • यह स्पष्ट नहीं है कि स्वीडन में आगे क्या होगा

नई दिल्ली:

स्वीडिश पीएम स्टीफन लोफवेन रिक्सडैग ( Swedish PM Stefan Lofven ) स्वीडिश संसद ( Swedish Parliament ) में अविश्वास मत हार गए, जिससे वह विपक्षी सांसदों द्वारा अपदस्थ होने वाले पहले प्रधानमंत्री बन गए. स्वीडिश मीडिया ( Swedish media ) के अनुसार काफी दिनों से पीएम स्टीफन लोफवेन रिक्सडैग ( Swedish PM Stefan Lofven ) की सरकार को लेकर विपक्ष लगातार हमलावर था, स्टीफन लोफवेन ( Swedish PM Stefan Lofven ) सरकार पर आरोप लगाता रहा कि वह अल्पमत में है. विपक्ष की लगातार मांग पर सोमवार को स्वीडिश संसद में अविश्वास मत हुआ, जिसमें वह हार गए.

यह भी पढ़ें : 2015 पुलिस फायरिंग मामले में एसआईटी के सामने पेश होंगे बादल

स्वीडन सरकार के पहले नेता हो गए हैं जिन्हें इस तरह के प्रस्ताव पर हार का सामना करना पड़ा

स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन ( Swedish PM Stefan Lofven ) ने सोमवार को विश्वास मत खो दिया, जिससे वह स्वीडन सरकार के पहले नेता हो गए हैं जिन्हें इस तरह के प्रस्ताव पर हार का सामना करना पड़ा है. सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ( Social Democratic Party )के स्टीफन लोफवेन ( Swedish PM Stefan Lofven ) 2014 से प्रधानमंत्री थे. वोट की शुरुआत लेफ्ट पार्टी ने मंगलवार को की थी, जो अल्पमत की सरकार की सहयोगी थी.

यह भी पढ़ें : अरविंद केजरीवाल ने स्वर्ण मंदिर में पूजा की, कहा- पंजाब का सिख होगा CM कैंडिडेट

यह स्पष्ट नहीं है कि स्वीडन में आगे क्या होगा

यह स्पष्ट नहीं है कि स्वीडन में आगे क्या होगा. लोफवेन ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह अविश्वास प्रस्ताव के परिणाम का इंतजार करना चाहते हैं और फिर ‘‘सोचेंगे कि स्वीडन के लिए क्या बेहतर रहेगा. प्रधानमंत्री ( Swedish PM Stefan Lofven ) ने कहा कि उनके पास दो विचार हैं- मध्यावधि चुनाव कराना या कार्यवाहक सरकार का प्रमुख बने रहना. उनके पास विचार करने के लिए एक हफ्ते का समय है.

यह भी पढ़ें : डासना देवी मामले से जुड़े हैं धर्मांतरण गैंग के तार, आरोपी को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

First Published : 21 Jun 2021, 05:25:31 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.