News Nation Logo
Banner

कंगाल पाकिस्तान (Pakistan) पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक, बर्बादी के कगार पर पहुंचा देश

एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पाकिस्तान में एचआईवी मामलों पर संयुक्त राष्ट्र की एक नवीनतम रिपोर्ट के हवाले से कहा कि पाकिस्तान में एचआईवी के कुल मामलों की संख्या इस वर्ष बढ़कर 1,60,000 हो गई है.

पीटीआई | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 11 Sep 2019, 10:05:57 AM
पाकिस्तान (Pakistan) में 13 फीसदी बढ़ा एचआईवी (HIV-AIDS) संक्रमण

कराची:  

संयुक्त राष्ट्र (UN) की एक रिपोर्ट के अनुसार कंगाल पाकिस्तान (Kangaal Pakistan) में नए एचआईवी (HIV-AIDS) संक्रमण में 13 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. यह बढ़ोतरी ट्रांसजेंडर लोगों और यौन कर्मियों के बीच दर्ज की गई है. पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से यह जानकारी मिली है. पाकिस्तान के एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने पाकिस्तान में एचआईवी मामलों पर संयुक्त राष्ट्र की एक नवीनतम रिपोर्ट के हवाले से कहा कि पाकिस्तान में एचआईवी के कुल मामलों की संख्या इस वर्ष बढ़कर 1,60,000 हो गई है. 2010 के 67,000 मामलों को देखते हुए यह एक बड़ी बढ़ोतरी मानी जा रही है.

यह भी पढ़ें: Gold Silver Rate Today 11 Sep: सोना-चांदी खरीदें या बेचें, आज के लिए जानें दिग्गज जानकारों की राय

14 वर्ष की आयु वालों में 1,500 मामलों की बढ़ोतरी
खबर में कहा गया है कि रिपोर्ट संकेत देती है कि 2015 और 2018 के बीच लगभग 14 वर्ष की आयु वालों में 1,500 मामलों की बढ़ोतरी हुई. समाचारपत्र ने संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट के हवाले से कहा कि इसी तरह से 15 वर्ष से अधिक आयु की महिला एचआईवी मरीजों की संख्या 2015 में बढ़कर 37000 और 2018 में बढ़कर 48000 हो गई. एचआईवी दर इंजेक्शन मादक पदार्थ इस्तेमालकर्ताओं के बीच 2019 के दौरान 21 प्रतिशत बढ़ गई, यह बढ़ोतरी समलैंगिकों के बीच 3.7 फीसदी और यौन कर्मियों के बीच 3.8 फीसदी बढ़ी है.

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price 11 Sep: पेट्रोल-डीजल की नई कीमतें जारी, देखें पूरी लिस्ट

लरकाना जिले में इस वर्ष अप्रैल से करीब 800 लोग एचआईवी से संक्रमित
कंगाल पाकिस्तान के एचआईवी संक्रमणों पर संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट ऐसे समय आयी है जब देश के सिंध प्रांत के लरकाना जिले में इस वर्ष अप्रैल से करीब 800 लोग एचआईवी से संक्रमित पाये गए हैं. स्वास्थ्य अधिकारियों ने इसके लिए संक्रमित उपकरणों के इस्तेमाल, असुरक्षित रक्त चढ़ाये जाने और गैर पेशेवर कृत्य को जिम्मेदार ठहराया है जिसमें अक्सर झोला छाप डाक्टरों लिप्त होते हैं.

First Published : 11 Sep 2019, 10:04:28 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.