News Nation Logo
Banner

Viral News: अरब में 'क्रांति', एक भारतीय दंपति के कारण बदलना पड़ा कानून

अपने कड़े और कट्टर कानून के लिए पूरी दुनिया में चर्चित अरब में एक नई क्रांति हुई है. वह भी एक भारतीय दंपति के कारण.

News Nation Bureau | Edited By : Drigraj Madheshia | Updated on: 29 Apr 2019, 03:51:55 PM
प्रतिकात्‍मक चित्र

प्रतिकात्‍मक चित्र

नई दिल्‍ली:

अपने कड़े और कट्टर कानून के लिए पूरी दुनिया में चर्चित अरब में एक नई क्रांति हुई है. वह भी एक भारतीय दंपति के कारण. एक भारतीय दंपत्‍ति के नाम यूएई (UAE) में दिलचस्प रिकॉर्ड दर्ज हो गया. यूएई के जिन कानूनों को बदलने की कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था, एक भारतीय दंपति ने उसे संभव कर दिखाया है.हाल ही में UAE सरकार ने अपने सख्त कानून को बदलकर वहां जन्मी 9 महीने की बच्ची को बर्थ सर्टिफेट दे दिया है. इस बच्ची के पिता हिंदू और मां मुस्लिम हैं. पूरे मामले की काफी चर्चा है. सोशल मीडिया में भी इस मामले की काफी चर्चा है. यूएई के कड़े कानूनी नियमों के लिहाज से ये फैसला क्रांति से कुछ कम नहीं है.

यह भी पढ़ेंः BSF से बर्खास्‍त जवान तेज बहादुर को सपा ने दिया टिकट, नरेंद्र मोदी के खिलाफ भरा पर्चा

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, दूसरे देश से आकर UAE में रह रहे लोगों के लिए शादी को लेकर सख्त कानून हैं. यहां के कानून के मुताबिक, मुस्लिम पुरुष हिंदू या दूसरे धर्म की महिला से शादी कर सकता है, जबकि किसी मुस्लिम महिला को दूसरे धर्म के पुरुष से शादी करने की इजाजत नहीं है.

यह भी पढ़ेंः रिसर्चः जानिए कितने साल बाद Facebook पर जीवित लोगों से ज्यादा होंगे मृत लोग

खलीज टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय कपल किरण बाबू और सनम साबू सिद्दीकी ने साल 2016 में केरल में शादी की थी. लेकिन कारोबार के सिलसिले में किरण अपनी पत्नी के साथ UAE के शारजांह में रह रहे थे. साल 2018 में UAE के हॉस्पिटल में इनकी बेटी का जन्म हुआ. लेकिन बेटी के जन्म के बाद बच्ची को बर्थ सर्टिफिकेट नहीं दिया गया. "इसके बाद मैंने कानून की मदद लेकर बर्थ सर्टिफिकेट के लिए आवेदन किया. करीब 4 महीने तक सुनवाई चलने के बाद मेरे केस को खारिज कर दिया गया." बाबू ने बताया, जब से मेरी बेटी का जन्म हुआ है मेरी बेटी के पास कोई कानूनी दस्तावेज नहीं हैं.

यह भी पढ़ेंः IRCTC: रेलवे की तत्काल टिकट (Tatkal Ticket) बुक कराने का ये है सबसे आसान तरीका

किरण बाबू ने बताया, "वो दिन बहुत तनाव से भरे थे. सिर्फ माफी ही एक उम्मीद थी. बच्ची को आव्रजन मंजूरी देने से मना कर दिया गया था, क्योंकि उसके जन्म को साबित करने के लिए कोई डेटा या पंजीकरण नंबर नहीं था.लेकिन इंडियन एंबेसी ने हमारी काफी मदद की."

First Published : 29 Apr 2019, 03:45:23 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो