News Nation Logo

कतर के अल-थानी तालिबानी नेताओं से मिले, द्विपक्षीय संबंधों को बनाएंगे मजबूत

अल-थानी और उनके प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति भवन में तालिबान सरकार के नेतृत्व दल के साथ मुलाकात की. तालिबान ने कहा कि दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों और कतर में रहने वाले अफगानिस्तान लोगों के मानवीय सहायता के बारे में बात की.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 12 Sep 2021, 11:57:25 PM
Qatar 13

Qatar's Al-Thani (Photo Credit: File Photo)

काबुल:

अल-थानी और उनके प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति भवन में तालिबान सरकार के नेतृत्व दल के साथ मुलाकात की. तालिबान ने कहा कि दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय संबंधों और कतर में रहने वाले अफगानिस्तान लोगों के मानवीय सहायता के बारे में बात की. तालिबान के एक प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने कहा, "बैठक द्विपक्षीय संबंधों, मानवीय सहायता, आर्थिक विकास और दुनिया के साथ बातचीत पर केंद्रित थी. " दोहा समझौता एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी, सभी पक्षों को इसके कार्यान्वयन का पालन करना चाहिए. शाहीन के अनुसार, अल-थानी ने भी द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने की अपनी इच्छा दोहराई. अल-थानी ने राष्ट्रीय सुलह के लिए उच्च परिषद के प्रमुख अब्दुल्ला अब्दुल्ला और पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई से भी मुलाकात की. अब्दुल्ला और करजई दोनों ने बताया कि उन्होंने अल-थानी के साथ अपनी बैठक में अफगानिस्तान में नवीनतम घटनाओं और एक समावेशी सरकार के गठन के बारे में बात की. अफगानिस्तान में नई सरकार बनने से पहले खाड़ी देश कतर ने तालिबान को अल्टीमेटम देते हुए अफगानिस्तान में तुरंत सीजफायर करने को कहा था. कतर की राजधानी दोहा में ही तालिबान का राजनीतिक मुख्यालय है. 

 तालिबान पर कतर का सबसे ज्यादा प्रभाव
तालिबान पर कतर का सबसे ज्यादा प्रभाव माना जाता है। इसी देश ने तालिबान को अंतराष्ट्रीय समुदाय से बातचीत करने के लिए दोहा में राजनीतिक कार्यालय बनाने की मंजूरी दी थी। तालिबान ने दोहा कार्यालय से ही अमेरिका के साथ 2018 में शांति समझौता किया था। इसके अलावा दुनियाभर के देशों के साथ तालिबान ने इसी जगह बैठक की। दावा किया जाता है कि तालिबान के राजनीतिक कार्यालय को चलाने के लिए फंड भी कतर सरकार की तरफ से ही जारी किए जाते हैं.

सभी देश बोले- ताकत वाली सरकार मंजूर नहीं
इस बयान में बताया गया है कि कतरी विदेश मंत्री ने बैठक में तालिबान से तनाव को कम करने और संघर्ष विराम करने का आग्रह किया। इसी मुद्दे पर अमेरिका, चीन, पाकिस्तान, संयुक्त राष्ट्र, यूरोपीय संघ और अन्य के दूतों ने गुरुवार को दोहा में तालिबान प्रतिनिधियों और अफगान सरकार के अधिकारियों से मुलाकात भी की थी। इस बैठक के बाद सभी देशों ने साझा बयान में कहा कि वे अफगानिस्तान में ताकत के दम पर बनी किसी भी सरकार को मान्यता नहीं देंगे.

कौन है मुल्ला अब्दुल गनी बारदर
तालिबान के सह-संस्थापकों में से एक मुल्ला अब्दुल गनी बरादर तालिबान के राजनीतिक कार्यालय का प्रमुख है। इस समय वह तालिबान के शांति वार्ता दल का नेता है, जो कतर की राजधानी दोहा में एक राजनीतिक समझौते की कोशिश करने का दिखावा कर रहा है। मुल्ला उमर के सबसे भरोसेमंद कमांडरों में से एक अब्दुल गनी बरादर को 2010 में दक्षिणी पाकिस्तानी शहर कराची में सुरक्षाबलों ने पकड़ लिया था, लेकिन बाद में तालिबान के साथ डील होने के बाद पाकिस्तानी सरकार ने 2018 में उसे रिहा कर दिया था.

First Published : 12 Sep 2021, 11:52:58 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो