News Nation Logo
Banner

UN महासभा में बोले राष्ट्रपति जो बाइडेन, यूरोप को खुली परमाणु धमकी दे रहे हैं पुतिन 

News Nation Bureau | Edited By : Iftekhar Ahmed | Updated on: 21 Sep 2022, 11:07:01 PM
Joe Biden

यूरोप को खुली परमाणु धमकी दे रहे हैं  पुतिन : बिडेन (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:  

रूस-यूक्रेन युद्ध समाचार: संयुक्त राष्ट्र महासभा की सालाना बैठक को संबोधित करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने रूस-यूक्रेन युद्ध का मुद्दा प्रमुखता से उठाया. बाइडेन का पूरा भाषण रूस और यूक्रेन के इर्द-गिर्द घूमता रहा. राष्ट्रपति जो बिडेन ने बुधवार को कहा कि रूस ने यूक्रेन में अपने क्रूर और अनावश्यक युद्ध छोड़कर संयुक्त राष्ट्र चार्टर के मूल सिद्धांतों का बेशर्मी से उल्लंघन किया है. अंतरराष्ट्रीय बिरादरी पर रूस के आक्रमण की कड़ी निंदा करते हुए बिडेन ने कहा कि यूक्रेन में नागरिकों के खिलाफ रूसी दुर्व्यवहार की रिपोर्ट आपके अंदर सिहरन पैदा कर देगी. 

यूरोप पर पुतिन के परमाणु हमले की धमकी से बाइडेन ने UN को किया आगाह
उन्होंने यह भी कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के यूरोप के खिलाफ नए परमाणु खतरों ने परमाणु हथियारों के अप्रसार पर संधि के हस्ताक्षरकर्ता देश के रूप में अपनी जिम्मेदारियों के लिए लापरवाही भरा रवैये को दिखाता है.  बिडेन ने कहा कि हम रूस की आक्रामकता के खिलाफ एकजुटता से खड़े होंगे. बाइडेन ने कहा कि इसलिए महासभा में 141 राष्ट्र एक साथ आए और यूक्रेन के खिलाफ रूस के युद्ध की निंदा की.

लड़ाई में रूस की ओर से और सैनिकों के उतारने पर जताई चिंता
बाइडेन ने कहा कि रूस लड़ाई में शामिल होने के लिए अपने और सैनिकों को बुला रहा है. यूक्रेन के कुछ हिस्सों पर कब्जा करने की कोशिश के लिए क्रेमलिन एक दिखावटी जनमत संग्रह आयोजित कर रहा है. अंत में बाइडेन ने कहा कि आप की तरह, संयुक्त राज्य अमेरिका भी चाहता है कि यह युद्ध उचित शर्तों पर समाप्त हो, जिन शर्तों पर हम सभी ने हस्ताक्षर किए हैं. आप किसी देश के क्षेत्र को बलपूर्वक जब्त नहीं कर सकते, लेकिन इस रास्ते पर चलने वाला एकमात्र देश रूस है. 

गौरतलब है कि इससे पहले रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने बुधवार को कहा था कि आंशिक रूप से लामबंदी पर राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के फरमान से यूक्रेन में रूस के सैन्य अभियान में सेवा के लिए 3 लाख अतिरिक्त कर्मियों को बुलाया जाएगा. इस बीच, यूक्रेन ने इस खबर पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे 'पूर्वानुमानित' करार दिया और कहा कि यह दर्शाता है कि युद्ध का प्रयास विफल हो रहा है.

रूसी रूबल में आई तेज गिरावट
रूसी रूबल बुधवार को डॉलर के मुकाबले 62 के पार लगभग दो महीनों में पहली बार गिर गया, क्योंकि राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद रूस की पहली लामबंदी का आदेश दिया. 0643 जीएमटी पर रूबल 2.3% कमजोर होकर 61.97 डॉलर पर था, जो 62.6125 तक गिर गया था, जो 1 अगस्त के बाद से इसका सबसे कमजोर बिंदु था. यह 1.5% की गिरावट के साथ 61.50 यूरो पर कारोबार कर रहा था.

First Published : 21 Sep 2022, 10:46:49 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.