News Nation Logo

PM मोदी बोले- QUAD का उद्देश्य- दुनिया में शांति स्थापना और मानव कल्याण

क्वाड लीडर्स समिट में पीएम नरेंद्र मोदी की उद्घाटन टिप्पणी में कहा कि हमारे चार देश भारत-प्रशांत क्षेत्र की मदद के लिए 2004 की सुनामी के बाद पहली बार मिले। आज, जब दुनिया #COVID19 महामारी से लड़ रही है, हम एक बार फिर मानवता के कल्याण के लिए क्वाड के र

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 25 Sep 2021, 12:11:11 AM
Qwad

Qwad (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

क्वाड लीडर्स समिट में पीएम नरेंद्र मोदी की उद्घाटन टिप्पणी में कहा कि हमारे चार देश भारत-प्रशांत क्षेत्र की मदद के लिए 2004 की सुनामी के बाद पहली बार मिले। आज, जब दुनिया #COVID19 महामारी से लड़ रही है, हम एक बार फिर मानवता के कल्याण के लिए क्वाड के रूप में यहां आए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि अपनी साझा डेमोक्रेटिक सोच के आधार पर क्वाड ने आगे बढ़ने का काम किया. वैक्सीन नीति हो या सुरक्षा संबंधी मामले. क्वाड ने बेहतर काम करके दिखाया है. क्वाड विश्व में इंडो पेस्फिक और अन्य मामलों में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा.

यह भी पढें :Covaxin के आपात इस्तेमाल को जल्द मंजूरी दे सकता है WHO: भारती प्रवीण

वहीं, ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन व्हाइट हाउस में क्वाड लीडर्स समिट में उद्घाटन टिप्पणी करते हुए कहा कि हम एक स्वतंत्र और खुले इंडो-पैसिफिक में विश्वास करते हैं क्योंकि हम जानते हैं कि यही एक मजबूत और समृद्ध क्षेत्र प्रदान करता है. आपको बता दें कि व्हाइट हाउस में क्वाड लीडर्स समिट में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन, ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन और जापानी पीएम योशीहिदे सुगा शिखर ने भाग लिया.

आपको बता दें कि इससे पहले जो बाइडेन प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान और अमेरिका के समूह 'क्वाड' के बारे में विस्तृत जानकारी दी है।
अधिकारी ने कहा, "मैं यह रेखांकित करना चाहता हूं कि क्वाड एक अनौपचारिक सभा है, हालांकि हमारे पास कई कार्य समूह हैं और हम बहुत दैनिक आधार पर सहयोग बढ़ा रहे हैं। यह भी मामला है कि यह एक क्षेत्रीय सुरक्षा संगठन नहीं है। हम मौजूदा माहौल में हिंद-प्रशांत के सामने आने वाली चुनौतियों से जुड़े विशेष मुद्दों का समाधान करने जा रहे हैं और मुझे लगता है कि नेता (शुक्रवार को) इसी पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।"

यह भी पढ़ेंः IAF का एयरबस से हुआ 22 हजार करोड़ का करार, टाटा ग्रुप बनाएगा C-295 एयरक्राफ्ट्स

उन्होंने कहा, "यह भी मामला है कि राष्ट्रपति (जो) बाइडेन का मानना है कि बहुत बार, इस प्रकार की चर्चाएं स्क्रिप्टेड यानी गढ़ी गई होती हैं और वह वास्तव में बैठना चाहते हैं और सभी नेताओं के साथ एक ऐसे माहौल में गहरी बातचीत करना चाहते हैं, जहां वे आगे बढ़ने पर वास्तव में ²ष्टिकोण साझा कर सकें कि उनमें से प्रत्येक के लिए क्या महत्वपूर्ण है।"

First Published : 24 Sep 2021, 11:55:13 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो