logo-image
लोकसभा चुनाव

इटली में इन नेताओं से पीएम मोदी ने की मुलाकात, G7 शिखर सम्मेलन की ये हैं खास बातें 

इटली के अपुलिया में G7 शिखर सम्मेलन चल रहा है. इससे अलग पीएम मोदी और इमैनुएल मैक्रों ने द्विपक्षीय बैठक की. दोनों नेताओं ने भारत-फ्रांस के द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की है. 

Updated on: 15 Jun 2024, 06:14 AM

नई दिल्ली:

इटली में G7 शिखर सम्मेलन का आयोजन हो रहा है. इसमें पीएम नरेंद्र मोदी शामिल होने के लिए पहुंचे हैं. इस दौरान पीएम मोदी फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों, ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक और यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की से मिले. उनके साथ वर्ल्ड लीडर्स ने अलग-अलग द्विपक्षीय बैठकें भी कीं. पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों की खास मुलाकात हुई. इस दौरान विदेश मंत्रालय ने कहा कि स्थिर और समृद्ध वैश्विक व्यवस्था को लेकर भारत और फ्रांस के बीच मजबूत और भरोसेमंद रणनीतिक साझेदारी अहम है. दोनों नेताओं ने 'मेक इन इंडिया'  पर अधिक ध्यान और रणनीतिक रक्षा सहयोग पर जोर दिया. इस बीच इटली में पीएम मोदी यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की से भी मिले. 

आपको बता दें कि पीएम मोदी जी7 शिखर सम्मेलन के ‘आउटरीच सत्र’ में शिरकत करने के लिए पहुंचे हैं. पीएम मोदी अपने एक दिन के दौरे में इटली की पीएम जॉर्जिया मेलोनी की ओर से आयोजित कृत्रिम मेधा यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI), ऊर्जा, अफ्रीका और भूमध्यसागरीय क्षेत्र को लेकर एक सत्र में भाग लेंगे. इस सत्र में पोप फ्रांसिस भी होंगे. 

ये भी पढ़ें: Expainer: भारत के लिए क्यों खास है इटली, जानें- कब-कब रहा दोनों देशों के बीच विवाद!

द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने पर बातचीत

दोनों नेताओं के बीच भारत और यूक्रेन के साथ द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने पर बातचीत हुई. पीएम मोदी ने ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक से भी मुलाकात की. दोनों के बीच रक्षा क्षेत्र में औद्योगिक सहयोग बढ़ाने, व्यापार और वाणिज्य को बढ़ावा देने को लेकर बातचीत हुई. 

 

इन मुद्दों पर हुई बात 

विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी कि आज इटली के अपुलिया में G7 शिखर सम्मेलन से  अलग पीएम मोदी और इमैनुएल मैक्रों ने बीच खास बातचीत हुई. दोनों नेताओं के बीच भारत-फ्रांस के द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा हुई. इसमें रक्षा, न्यूक्लियर, अंतरिक्ष, शिक्षा, जलवायु परिवर्तन आदि कई मुद्दों पर सहयोग बढ़ाने पर चर्चा की गई.  2025 में फ्रांस में AI शिखर सम्मेलन और यूनाइटेड नेशन्स ओशियन कॉन्फ्रेंस होगी. AI एक उभरती टेक्नोलॉजी है. एनर्जी और स्पोर्ट्स के क्षेत्र में भी सहयोग बढ़ाने को लेकर सहमति जताई है. 

विदेश मंत्रालय ने बताया कि दोनों नेताओं ने क्षेत्रीय मुद्दों पर चर्चा की. दोनों नेताओं ने इस बात पर खास जोर दिया कि भारत और फ्रांस के बीच मजबूत रिश्ते कायम हों. इसके साथ एक भरोसेमंद रणनीतिक साझेदारी बने. इसे और अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचाने के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आगामी पेरिस ओलंपिक और पैरालिंपिक खेलों को लेकर फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों को शुभकामनाएं दीं.