News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

JNU हिंसा की आंच पहुंची पाकिस्तान, छात्रों-शिक्षकों ने जेएनयू के समर्थन में निकाली रैली

पाकिस्तान के लाहौर में छात्रों और शिक्षकों ने जेएनयू के समर्थन में रैली निकाली. जेएनयू में हुई हिंसा का विरोध किया

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 08 Jan 2020, 10:30:00 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: सोशल मीडिया)

नई दिल्ली:  

जेएनयू में रविवार को हुई हिंसा का विरोध पूरे देश में किया जा रहा है. जेएनयू प्रदर्शन की आंच अब पाकिस्तान भी पहुंच गई है. पाकिस्तानी छात्रों ने जेएनयू के समर्थन में रैली निकाली. बुधवार को पाकिस्तान के लाहौर में छात्रों और शिक्षकों ने जेएनयू के समर्थन में रैली निकाली. जेएनयू में हुई हिंसा का विरोध किया. पाकिस्तान में यह रैली लाहौर प्रेस क्लब से निकाली गई, जिसमें कई यूनिवर्सिटी के छात्र-छात्राएं शामिल रहे.

यह भी पढ़ें- ईरान के हमले को लेकर डोनाल्ड ट्रंप ने कही ये बड़ी बातें, जानें सिर्फ 10 Points में

जेएनयू में रविवार को हुई हिंसा पर काफी राजनीति होने लगी है. सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने जेएनयू मामले में कूद गए हैं. मंगलवार को सीताराम येचुरी और डी राजा कैंपस पहुंचे थे. उन्होंने छात्र संघ नेता आईशी घोष से मुलाकात की थी. साथ ही बीजेपी के भी कई बड़े नेताओं का बयान सामने आया है. कांग्रेस भी इसमें पीछे नहीं रही. वहीं इस मामले में हो रही राजनीती पर जेएनयू के कुलपति एम जगदीश कुमार ने खासी नाराजगी जताई है. उन्होंने कहा कि कृपया राजनीति ना करें, हमें अकेले छोड़ दें.

यह भी पढ़ें- JNU हिंसा पर छलका VC जगदीश कुमार का दर्द, बोले- कृपया राजनीति ना करें, हमें अकेला छोड़ दें

वहीं वीसी ने कहा कि जो लोग आंदोलनकारियों के समर्थन में आ रहे हैं, मैं उन सभी महान लोगों से सवाल पूछा कि उन लोगों का क्या? जो अपने अधिकारों से वंचित हो गए हैं. जो लोग पढ़ाई और रिसर्च से वंचित हो गए हैं. आप लोग उनलोगों के साथ क्यों नहीं खड़े हो सकते. वीसी का साफ कहना था कि लोग आंदोलनकारियों के समर्थन में तो खड़े हो रहे हैं, लेकिन जिन लोगों को इसकी वजह से पढ़ाई में वाधा उत्पन्न होता है, उनका रिसर्च रुक गया है, उनलोगों के साथ ये लोग क्यों नहीं खड़े हो सकते.

यह भी पढ़ें- America vs Iran: डोनाल्ड ट्रंप बोले- ईरानी हमले में किसी अमेरिकी सैनिक को नुकसान नहीं 

इसके अलावा एम जगदीश कुमार ने फीस वृद्धि पर भी बात की. उन्होंने कहा कि हम अपने विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों से भी संपर्क कर सकते हैं, ताकि वे ऐसे सभी छात्रों की मदद कर सकें, जो समाज के गरीब तबके से आते हैं. वहीं कांग्रेस की चार सदस्यीय वाली फैक्ट फाइंडिंग कमेटी पर उन्होंने कहा कि कृपया हमारे विश्वविद्यालय में राजनीति नहीं करें. कृपया हमलोगों को अकेला छोड़ दें और मुझे अपना काम करने दें.

यह भी पढ़ें- PM Modi खेलो इंडिया यूथ गेम्स के उद्घाटन समारोह में नहीं होंगे शामिल, वजह है बेहद खास

दिल्ली पुलिस को जेएनयू में छात्रों पर हमला करने वाले नकाबपोश लोगों की पहचान के बारे में महत्वपूर्ण सुराग मिले हैं. पुलिस मामला सुलझाने के कगार पर हैं. सूत्रों से मिली खबरों के अनुसार लेफ्ट समर्थक छात्र पुलिस जांच को बिल्कुल भी सपोर्ट नहीं कर रहे हैं. बुधवार को क्राइम ब्रांच की टीम ने jnu कैंपस में सुरक्षा कर्मियों के बयान दर्ज किए. साथ ही सर्वर रूम में तोड़फोड़ से जुड़े अहम सबूत जुटाने का भी दावा किया. पुलिस सूत्रों की माने तो उन 20 लेफ्ट समर्थित लोगों की पहचान कर ली गयी है, जिन्होंने जेनएयू कैंपस में यूनिवर्सिटी के सर्वर रूम को तहस नहस किया था, लेकिन हॉस्टल में नकाब लगाकर मारपीट करने वालों के बारे में ठोस जानकारी नहीं जुटा पाई है.

First Published : 08 Jan 2020, 10:15:37 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

JNU Pakistan Rally JNU Violence