News Nation Logo
Banner

हिंदू मंदिरों में तोड़-फोड़ चिंताजनक, पाकिस्तान मानवाधिकार आयोग में याचिका

Pakistan Hindu temples Demolition : पाकिस्तान (Pakistan) में हिंदू मंदिरों (Hindu Temples) में तोड़फोड़ की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं. इमरान सरकार (Imran Government) अपने देश पाकिस्तान में मंदिरों की सुरक्षा करने में नाकाम साबित हो रही है.

Written By : Arvind Singh | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 14 Sep 2021, 05:02:35 PM
pak hindu temple

हिंदू मंदिरों में तोड़-फोड़ चिंताजनक (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

Pakistan Hindu temples Demolition : पाकिस्तान (Pakistan) में हिंदू मंदिरों (Hindu Temples) में तोड़फोड़ की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं. इमरान सरकार (Imran Government) अपने देश पाकिस्तान में मंदिरों की सुरक्षा करने में नाकाम साबित हो रही है. पाकिस्तान में हिंदू मंदिरों पर हमले की बढ़ती घटनाओं और वहां मौजूद मंदिरों की पर्याप्त सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग को लेकर भारत के वकील विनीत जिंदल ने पाकिस्तान मानव अधिकार आयोग के पास एक अर्जी दायर की है. पिछले दिनों में पाकिस्तान में एक मंदिर में मूर्तियां तोड़ दी गई थीं.

इस याचिका में पाकिस्तान (Pakistan ) में मौजूद मंदिरों पर हमले की कई घटनाओं का हवाला देते हुए मांग की गई है कि मंदिरों में सुरक्षा बलों की तैनाती के साथ-साथ हिदुओं के धार्मिक स्थलों को बचाने के लिए कानून बनाया जाए. इसके साथ ही अभी तक जिन मंदिरों को वहां मौजूद कट्टरपंथी तत्वों ने नुकसान पहुंचाया है, उनका फिर से निर्माण किया जाए.

आपको बता दें कि पिछले दिनों पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में एक हिंदू मंदिर में कथित तौर पर एक स्थानीय मदरसा में पेशाब करने वाले नौ वर्षीय हिंदू लड़के को जमानत मिलने के बाद सैकड़ों लोगों ने मंदिर में तोड़फोड़ की थी. डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, घटना रहीम यार खान शहर से करीब 60 किलोमीटर दूर भोंग कस्बे में हुई थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि तोड़फोड़ के अलावा, भीड़ ने सुक्कुर-मुल्तान मोटरवे को भी अवरुद्ध कर दिया था.

डॉन न्यूज के अनुसार, दारुल उलूम अरब तालीमुल कुरान के मौलवी हाफिज मुहम्मद इब्राहिम की शिकायत के आधार पर 24 जुलाई को नाबालिग के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. कुछ हिंदू बुजुर्गों ने मदरसा प्रशासन से माफी मांगते हुए कहा कि आरोपी नाबालिग था और मानसिक रूप से विक्षिप्त था. लेकिन, जब एक निचली अदालत ने उन्हें जमानत दे दी, तो कस्बे में कुछ लोगों ने जनता को उकसाया और विरोध में सभी दुकानों को बंद कर दिया.

सोशल मीडिया पर एक वीडियो क्लिप वायरल हुई थी, जिसमें लोगों को क्लब और रॉड से मंदिर पर हमला करते और उसके कांच के दरवाजे, खिड़कियां, लाइट तोड़ते और छत के पंखे को नुकसान पहुंचाते हुए दिखाया गया है. 

First Published : 14 Sep 2021, 04:44:30 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.