News Nation Logo

जेनेवा में पाकिस्तान ने माना जम्मू-कश्मीर को भारत का राज्य, शाह महमूद कुरैशी का कबूलनामा

न्यूज स्टेट ब्यूरो | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 10 Sep 2019, 05:18:24 PM
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (फोटो:ANI)

नई दिल्ली:  

आखिरकार पाकिस्तान ने भी जम्मू-कश्मीर को भारत का राज्य मान लिया. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी जेनेवा में कश्मीर को लेकर भारत को घेरने की योजना बना रहे थे. लेकिन सच्चाई उनके मुंह से निकल ही गई. पत्रकारों से बातचीत में कुरैशी साहब ने जम्मू-कश्मीर को भारत का राज्य बता दिया.

जेनेवा में पत्रकारों से बातचीत के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री (Pakistan Foreign Minister) शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) ने कहा कि भारत दुनिया को यह दिखा रहा है कि वहां जीवन सामान्य की तरफ लौट रहा है. अगर हालात सामान्य हो रहे हैं तो इंटरनेशनल मीडिया, इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन, सिविल सोसाइटीज को भारत के राज्य जम्मू-कश्मीर में क्यों नहीं जाने देते हैं. और उन्हें खुद देखने देते हैं कि हालात कैसा है.'

इसे भी पढ़ें:दुश्मन देश की खैर नहीं! दहशरे पर भारत में राफेल भरेगा उड़ान, फ्रांस जाएंगे राजनाथ सिंह

भारत पर मानवाधिकार के उल्लंघन का आरोप लगाने वाले कुरैशी ने कहा, 'वे झूठ बोल रहे हैं. एक बार कर्फ्यू हटते ही सच्चाई बाहर आएगी और दुनिया जागेगी कि वहां क्या तबाही चल रही है.

मंगलवार को पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) में कश्मीर का मसला उठाया है. विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि कश्मीर में संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन किया जा रहा है. यूएनएचआरसी मानवाधिकार उल्लंघन पर ध्यान दे. हम संयुक्त जांच समिति के गठन की मांग करते हैं. इसके साथ ही कुरैशी ने यूएनएचआरसी ने अनुरोध किया कि कश्मीर के मुद्दे पर परिषद चुप न बैठे.

इसे भी पढ़ें:पाक आर्मी की वर्दी पहनकर आतंकवादी कश्मीर में कर रहे ये काम...

जम्मू-कश्मीर को लेकर सुरक्षा परिषद में मुंह की खा चुके पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भी मुद्दा बनाने की कोशिशों में जुटा है. पाकिस्तान ने 115 पेज के झूठ के पुलिंदे के साथ कश्मीर की स्थित को लेकर भारत पर आरोप लगाया है. 

First Published : 10 Sep 2019, 04:15:45 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.