News Nation Logo
Banner

पाकिस्तान के सेना प्रमुख बाजवा के सामने ही इमरान खान की हुई बेइज्जती, कारोबारियों ने कही ये बड़ी बात

पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से मुलाकात के दौरान देश के शीर्ष कारोबारी इमरान सरकार की नीतियों पर गुस्से में फट पड़े.

By : Deepak Pandey | Updated on: 03 Oct 2019, 08:25:32 PM
पाकिस्तान के पीएम इमरान खान

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (Photo Credit: (फाइल फोटो))

नई दिल्ली:

पाकिस्तान के सैन्य प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा से मुलाकात के दौरान देश के शीर्ष कारोबारी इमरान सरकार की नीतियों पर गुस्से में फट पड़े. उन्होंने अर्थव्यवस्था की हालत पर गंभीर चिंता जताते हुए इससे निपटने के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे 'उदासीन प्रयासों' की जमकर आलोचना की. जवाब में जनरल बाजवा ने उनसे हमदर्दी जताई, कहा कि वह उनकी पीड़ा को समझ रहे हैं और सलाह दी कि वे सरकार का साथ दें और सरकार विरोधी तत्वों के साथ न खड़े हों.

यह भी पढ़ेंःरक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 8 अक्टूबर को फ्रांस में उड़ाएंगे राफेल, पाकिस्तान को देंगे ऐसे जवाब 

पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, यह मुलाकात बुधवार को डिनर पर हुई और काफी देर तक चली. रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया कि उद्यमियों की मुख्य शिकायत यह थी कि सरकार केवल बातें करती हैं और उसकी कथनी और करनी में बहुत अंतर है. मुलाकात की अंदरूनी जानकारी रखने वाले सूत्रों ने कहा कि करीब बीस सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने सैन्य प्रमुख से मुलाकात की. बाजवा ने उन्हें अपनी तरफ से हर संभव मदद का भरोसा दिलाया.

उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि सैन्य अफसरों की एक आंतरिक समिति बनाई जा सकती है जो प्रतिनिधियों की शिकायत के समाधान की दिशा में काम करे. बाजवा ने देश के प्रमुख उद्यमियों से कहा कि 'हम सभी पाकिस्तान से प्यार करते हैं और देश को उनकी सबसे अधिक जरूरत है.' कारोबारियों ने सरकार के खिलाफ अपने गुस्से को व्यक्त करने में कोई कोताही नहीं की.

यह भी पढ़ेंःअयोध्या केस का 36वां दिनः बाबरी मस्जिद के वजूद से पहले लिखे स्कंदपुराण में श्रीरामजन्मस्थान का जिक्रः हिन्दू पक्ष

उन्होंने सैन्य प्रमुख से कहा कि उनकी कारोबारी इकाइयां एक-एक कर बंद हो रही हैं. अगर यही हाल रहा तो देश में कारोबार सिरे से ठप पड़ जाएगा जिससे जो बेरोजगारी पैदा होगी, उसकी अभी कल्पना भी नहीं की जा सकती. उन्होंने कहा कि सबसे बड़ी समस्या यह है कि रोशनी की कोई किरण भी नजर नहीं आ रही है.

कारोबारियों ने कहा कि देश की जीडीपी अपने न्यूनतम स्तर पर और महंगाई उच्चतम स्तर पर है. और, इन हालात में एफबीआर टैक्स वसूली के नाम पर उन्हें बुरी तरह से निचोड़ रहा है. लागत का लगातार बढ़ते जाना कारोबार के लिए बड़ा संकट बन चुका है.

First Published : 03 Oct 2019, 08:25:32 PM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×