News Nation Logo
एकनाथ शिंदे ने आगे की रणनीति पर चर्चा के लिए दोपहर 2 बजे गुवाहाटी के होटल में बैठक बुलाई भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 17,073 नए मामले सामने आए दिल्ली हाईकोर्ट के नए मुख्य न्यायाधीश सतीश चंद्र शर्मा को आज LG दिलाएंगे शपथ महाराष्ट्र: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुलाई कैबिनेट बैठक, 2.30 बजे होगी मीटिंग असम : एकनाथ शिंदे गुवाहाटी स्थित कामाख्या मंदिर पहुंचे भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 14,506 नए मामले सामने आए महाराष्ट्र: कल होगा फ्लोर टेस्ट, राज्यपाल ने बुलाया विधानसभा का विशेष सत्र असम बाढ़ के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 51 लाख रुपए दान करेंगे एकनाथ शिंदे बीजेपी के 164 विधायकों का दावा- देवेंद्र फडणवीस कल देर रात सीएम पद का शपथ ले सकते हैं

Durand Line को लेकर पाकिस्तान और तालिबान आमने-सामने, पाकिस्तान ने दी धमकी

पाकिस्तान (Pakistan) और तालिबान (Taliban) के बीच डूरंड रेखा (Durand Line) को लेकर तनाव का माहौल बना हुआ है.

News Nation Bureau | Edited By : Shubham Upadhyay | Updated on: 06 Nov 2021, 08:40:19 AM
Durand Line dispute

Durand Line dispute (Photo Credit: Twitter)

highlights

  • पाकिस्तान-तालिबान के बीच डूरंड रेखा को लेकर तनाव
  • पकिस्तान डूरंड रेखा पर चाहता है बाड़ लगाना
  • तालिबान ने नहीं माना है डूरंड लाइन को सीमा रेखा

 

नई दिल्ली :  

पाकिस्तान (Pakistan) और तालिबान (Taliban) के बीच डूरंड रेखा (Durand Line) को लेकर तनाव का माहौल बना हुआ है. पकिस्तान डूरंड रेखा (Durand Line) पर बाड़ लगाना चाहता है लेकिन वहीं तालिबान इसके उलट है. तालिबान ने बाड़ लगाने के लिए आनाकानी की है, जिसको देखते हुए पाकिस्तान ने तालिबान को धमकी दी है कि डूरंड रेखा (Durand Line) पर फैंसिंग का अगर विरोध किया जाता है तो अफगानियों के डूरंड रेखा (Durand Line) के आर-पार जाना मुश्किल हो जाएगा.दरअसल तालिबान ने कभी भी डूंरड लाइन को सीमा रेखा नहीं माना है.

उसका मानना है कि पाकिस्तान की बनाई इस डूंरड लाइन से कई परिवारों को अलग कर दिया है. हम एक शांति का माहौल चाहते हैं इसलिए कोई भी फैंसिंग की जरूरत नहीं है.

यह भी पढ़ें - T-20 World Cup World 11: वर्ल्ड कप के लिए ये है आज की हमारी वर्ल्ड-11

आपको बताते चलें कि दूसरे अफगान युद्ध के दो साल बाद अब्दुर रहमान को अफ़ग़ानिस्तान का राजा बनाया गया था. युद्ध में ब्रिटिश फौज ने अफगानिस्तान के कई हिस्सों पर कब्ज़ा कर लिया था. इसके बाद जिसके बाद साल 1893 में सर डूरंड के साथ एक समझौते में इस सीमा रेखा को बनाया गया. ये सीमा रेखा 2670 किलोमीटर की है. गौरतलब है कि डूरंड लाइन चीन से होते हुए ईरान तक जाती है. 

तालिबान के साथ साथ पश्तूनों को भी इस डूरंड रेखा से नाराजगी है.उनका भी यही मानना है कि वो सभी पिछले करीब 100 सालों से अपने परिवार के साथ रहते थे लेकिन अंग्रेजों की एक चाल ने उन्हें अपने परिवार वालों से अलग कर दिया। आपको बताते चलें  कि 1947 से अफगानिस्तान और पाकिस्तान के बीच इस लाइन को लेकर विवाद चल रहा है. अफगानिस्तान इस फैसले के साथ नहीं था, नतीजन पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच कई बार झड़पे हुई. जिससे वहां के नागरिकों को बहुत ही मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है.

First Published : 06 Nov 2021, 08:05:48 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.