News Nation Logo

पाकिस्तान की ऐंठ नहीं हो रही कम, अब कोरोना वायरस पर सार्क देशों की ट्रेड बैठक से रहा दूर

News State | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 09 Apr 2020, 08:24:10 AM
Imran Khan Corona Virus

बदहाल पाकिस्तान अब भी Corona Virus को नहीं ले रहा गंभीरता से. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • पाकिस्तान ने सार्क देशों के शीर्ष व्यापार अधिकारियों की बैठक में हिस्सा नहीं लिया.
  • कहा- ऐसी बैठकें तभी प्रभावी हो सकती हैं जब नेतृत्व समूह का सचिवालय कर रहा हो.
  • इसके पहले सार्क राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में इमरान खान ने भेजा था अपना मंत्री.

नई दिल्ली:  

पाकिस्तान (Pakistan) के ऊपर यह कहावत इन दिनों बिल्कुल सटीक बैठती है कि रस्सी जल गई लेकिन बल नहीं गया. इसकी वजह यह है कि पाकिस्तान ने सार्क (SAARC) देशों के शीर्ष व्यापार अधिकारियों की बैठक में हिस्सा नहीं लिया. वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये होने वाली यह बैठक कोविड-19 (COVID-19) महामारी के अंतर-क्षेत्रीय व्यापार पर होने वाले प्रभाव से निपटने को लेकर थी. बैठक में शामिल होने से इंकार करने के लिए पाकिस्तान ने तर्क दिया कि ऐसी बैठकें तभी प्रभावी हो सकती हैं जब इनका नेतृत्व भारत के बजाए समूह का सचिवालय कर रहा हो.

यह भी पढ़ेंः Hydroxychloroquine की सप्लाई पर डोनाल्ड ट्रंप बोले- Thank You पीएम मोदी

बैठक में शामिल नहीं होने का बेतुका तर्क
पाकिस्तान ने बुधवार को दक्षेस देशों के व्यापार अधिकारियों की बैठक का बहिष्कार किया और कहा कि ऐसी बैठकें तभी प्रभावी हो सकती हैं जब इनका नेतृत्व भारत के बजाए समूह का सचिवालय कर रहा हो. यह बैठक क्षेत्र में कोरोना वायरस के प्रभाव पर चर्चा करने और इस बात पर विचार विमर्श के लिए थी कि किस प्रकार यह समूह इस संकट से निपटने के लिए एक साझा रणनीति तैयार कर सकता है. बैठक होने के कुछ ही देर बाद पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा कि आज की व्यापार अधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंस जैसी गतिविधियां केवल तभी प्रभावी हो सकती हैं जब इनका नेतृत्व समूह का सचिवालय कर रहा हो. चूंकि दक्षेस सचिवालय वीडियो कांफ्रेंस का हिस्सा नहीं है. ऐसे में पाकिस्तान ने इसमें हिस्सा नहीं लेने का फैसला किया.

यह भी पढ़ेंः न्यूजीलैंड दौरे में मात्र 10 रन बनाने वाले बल्लेबाज ने कही बड़ी बात, आप भी चौंक जाएंगे

पाकिस्तान छोड़ सभी सार्क देश एक साथ
हालांकि बैठक हुई और भारतीय विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया, 'पाकिस्तान को छोड़कर सभी सार्क देशों ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बैठक में हिस्सा लिया.' मंत्रालय ने बताया कि बैठक के दौरान उपस्थित देशों के प्रतिनिधियों ने मौजूदा परिस्थितियों में साझा हितों और समस्या सुलझाने पर बात की. मंत्रालय ने कहा, 'बैठक में यह महसूस किया गया है कि कोविड-19 महामारी का सार्क क्षेत्र में व्यापाक असर होगा. स्थिति से निपटने के लिए सदस्य देशों ने साथ मिलकर नए रास्ते तलाशने पर जोर दिया.'

यह भी पढ़ेंः दिल्ली की डिफेंस कॉलोनी में जमाती गार्ड 3 लोगों को कोरोना संक्रमण देकर फरार, मुकदमा दर्ज

बदहाल पर ट्रेड बैठक से दूर
कोरोना वायरस ने पाकिस्तान की कमर तोड़ दी है जो पहले ही आईएमएफ के कर्ज से चल रहा है. उसके पास कोरोना से लड़ने के लिए संसाधन मौजूद नहीं हैं जिस वजह से कभी वर्ल्ड बैंक तो कभी एशियाई बैंक मदद को आगे आया. अमेरिका और चीन जैसे मित्र देश भी उसे आर्थिक मदद दे चुके हैं और मेडिकल सप्लाई के जरिये भी मदद पहुंचा रहे हैं. वह कोरोना से लड़ने वाले सार्क फंड पर भी सवाल उठा चुका है ताकि वह इससे बच सके. उसने इस फंड के उद्देश्यों और इस्तेमाल को लेकर सफाई मांगी थी.

यह भी पढ़ेंः कोरोना वायरस फैलाने की साजिश रचने के शक में युवक की हत्या, जमात में हुआ था शामिल

राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में भेजा था मंत्री
गौरतलब है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए सार्क देशों के राष्ट्राध्यक्षों की वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बैठक बुलाई थी जिसमें पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम इमरान ने अपने मंत्री को भेज दिया था. इसके बाद स्वास्थ्य मंत्रियों की भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये बैठक कराई गई थी जिसमें पाक अधिकारी शामिल हुए थे.

First Published : 09 Apr 2020, 08:24:10 AM

For all the Latest World News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.